ई-कामर्स कंपनी फ्लिपकार्ट (Flipkart) में एक बड़े पुनर्गठन के तहत सभी इकाइयों को मूल कंपनी के तहत ला दिया गया है. बिन्नी बंसल को प्रमोट करते हुए उन्हें समूह का मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) बनाया गया है. अभी तक श्रेणी डिजाइन संगठन की अगुवाई कर रहे कल्याण कृष्णमूर्ति को फ्लिपकार्ट का सीईओ बनाया गया है. सह संस्थापक सचिन बंसल कार्यकारी चेयरमैन बने रहेंगे.
एक साल के अंदर यह दूसरी बार फ्लिपकार्ट में उच्चस्तरीय फेरबदल है. फ्लिपकार्ट ग्रुप के सीईओ बिन्नी ने कहा, ‘अब हम फ्लिपकार्ट का भविष्य निर्माण करने को तैयार हैं. हम भारत में वाणिज्य को बदलने की अपनी यात्रा पर आगे बढ़ रहे हैं. मुझे पूरा विश्वास है कि यह नया संगठन ढांचा फ्लिपकार्ट समूह के लिए और मूल्यवर्धन करने वाला होगा.’ इससे पहले तत्कालीन मुख्य परिचालन अधिकारी (COO) बिन्नी बंसल को फ्लिपकार्ट का सीईओ बनाया गया था. उन्होंने सचिन बंसल का स्थान लिया था जिन्हें कार्यकारी चेयरमैन नियुक्त किया गया था.
 
सचिन बंसल ने कहा था- उन्हें परफॉर्मेंस की वजह से हटाया गया...
पिछले साल फ्लिपकार्ट द्वारा अच्छी परफॉर्मेंस नहीं दे पाने के कारण 300 कर्मचारियों को निकालने का फैसला लिया गया था. इसके बाद कंपनी के मुख्यालय बेंगलुरु में आयोजित कंपनी की टाउन-हॉल मीटिंग में सचिन बंसल ने कहा था उन्हें भी परफॉर्मेंस की वजह से मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) के पद से हटाया गया था. पिछले ही साल जनवरी महीने में सचिन बंसल की जगह बिन्नी बंसल को सीईओ बनाया गया था.
 
ऐमेजॉन में काम करते थे सचिन और बिन्नी...
सचिन बंसल और बिन्नी बंसल फ्लिपकार्ट के गठन से पहले ऐमेजॉन के कर्मचारी थे. फ्लिपकार्ट की स्थापना 2007 में हुई थी. इस ऑनलाइन रीटेल प्लेटफॉर्म पर स्मार्टफोन से लेकर सूटकेस और कॉस्मेटिक्स प्रोडक्ट की बिक्री होती है लेकिन इस साल कंपनी की वैल्यू 15 बिलियन डॉलर से घटकर 11 बिलियन डॉलर हो गई.