नई दिल्ली. रविवार दोपहर मधु विहार के अजंता अपार्टमेंट सोयायटी के गेट पर एनआरआई पिता की हत्या करने के आरोपी बेटे ने जो खतरनाक कदम उठाया, उसे देख सोसायटी में रहने वाले लोगों के बीच हाहाकार मच गया। मृतक रविंद्र माटा कनाडाई नागरिक हैं। पिता की हत्या के बाद उसने मां की जान लेने की भी कोशिश की।
वे करीब 20 साल से कनाडा में रह रहे थे। परिवार में पत्नी विभा माटा के अलावा दो बेटे हैं। इनमें सबसे छोटा बेटा मुकुल माटा कनाडा में ही पिता के पास रहकर एक मोबाइल कंपनी में जॉब करता है। रविंद्र की पत्नी विभा माटा एक सरकारी पद से रिटायर हुई हैं। 1994 में अजंता अपार्टमेंट में यह फ्लैट खरीदा था जो विभा के नाम है।
मां के साथ ही बड़ा बेटा राहुल रहता था। मगर उसकी बुरी आदतों और गलत बर्ताव की वजह से कुछ समय पहले ही अलग कर दिया था। परिवार के करीबी जोगिंद्र के मुताबिक, राहुल की शादी नहीं हुई थी। खर्चे के लिए अपनी मां से डिमांड करता था। मगर कुछ समय पहले वह एक महिला के साथ रिलेशनशिप में था। उस महिला के करीब 15 और 16 साल के दो बच्चे हैं। महिला टीचर हैं। राहुल अक्सर उस महिला को घर पर अपनी मां के पास लाया ले जाया करता था। मां ने ऐतराज जताया था कि किसी महिला से ऐसे रिश्ते रखना उचित नहीं है।
बिना शादी के महिला और उसके बच्चे फ्लैट पर हक जता सकते हैं। मां की आपत्ति पर राहुल ने दावा किया था कि उसने महिला से मंदिर में शादी रचा ली है। इसके बाद मां ने कनाडा फोन करके रविंद्र माटा को पूरे घटनाक्रम की जानकारी दी। यह भी बताया कि राहुल जबरन फ्लैट में दाखिल होने के लिए झगड़ता है। राहुल की गलत आदतों और हिंसक मिजाज की वजह से सोसायटी के लोग भी तंग थे। एक दो बार पड़ोसियों ने दखल दिया। तब आरोपी राहुल ने एक युवती से बदसलूकी कर दी। परिवार में चल रही कलह की वजह से रविंद्र माटा अक्टूबर में दिल्ली आ गए थे। वह इन दिनों पत्नी के साथ रह रहे थे। उन्हें मार्च में वापस कनाडा जाना था।
रविवार को घटी वारदात का एक बड़ा कारण प्रॉपर्टी से बेदखल बताया जा रहा है। पिछले महीने ही राहुल पर छेड़छाड़ और शोरशराबा करने पर सोसायटी से उसे बाहर कर उसके प्रवेश पर रोक लगा दिया गया था। इतना ही नहीं उसकी करतूतों और झगड़े से तंग आकर पिता ने उसे पूरी तरह बेदखल करने की बात भी कही थी।
हमलावर राहुल कनाडा में मर्चेंट नेवी में जॉब कर चुका है। वहां रहते हुए एक विदेशी युवती से सेक्सुअल अब्यूज में 2 साल जेल में रहा। वहां से डिपोर्ट करके भारत भेजा गया। सोसायटी में एंट्री बैन से गुस्साया राहुल माटा रविवार को अपने साथ नारियल काटने वाला छुरा लेकर पहुंचा था। सोसायटी के गेट पर वॉचमैन नंदन ने उसे रोक दिया, जिससे हाथापाई करने लगा। इसी बीच रविंद्र माटा वहां पहुंच गए। उन्होंने डांटा तो उनके ऊपर छुरे से हमला कर दिया।
ताबड़तोड़ हमले के बाद वह सीधे भागकर अपने फ्लैट में पहुंचा। विभा माटा उस वक्त अंदर मौजूद थीं। दरवाजा खटखटाने पर नहीं खुला तो भागते हुए पड़ोस में जा पहुंचा। जहां रोकने पर रेनू बंसल नाम की महिला पर हमला कर दिया। उसके बाद एक अन्य फ्लैट में घुस गया। पूरे सोसायटी में भगदड़ का माहौल था। पकड़े जाने के डर से फ्लैट में राहुल ने खुद को अंदर लॉक कर लिया। उसे गैस सिलेंडर का पाइप खोलकर आग लगा ली। उसे बचाने में 11 पुलिसवाले भी झुलस गए।