पंजाब में विधानसभा चुनाव के लिए नामाकंन की शुरुआत

जालंधर. पंजाब में चार फरवरी को होने वाले विधानसभा चुनावों तथा अमृतसर में होने वाले लोकसभा उपचुनाव के लिए आज अधिसूचना जारी होने के साथ ही नामांकन पत्र दाखिल करने का काम शुरु हो गया.  जिला निर्वाचन अधिकारी सह जिलाधिकारी के.के यादव ने आज भाषा को बताया कि राज्य में अगले महीने की चार तारीख को होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए अधिसूचना जारी होने के साथ ही जालंधर में भी नामांकन प्रक्रिया की शुरुआत हो गयी है.  उन्होंने बताया कि चुनाव लड़ने वाले सभी दलों के प्रत्याशी 18 जनवरी तक निर्वाचन आयोग के दिशा निर्देशों के अनुसार जिले के सभी नौ विधानसभा क्षेत्रों के संबंधित निर्वाचन अधिकारी के समक्ष नामांकन पत्र दाखिल कर सकेंगे.

-11 बजे से लेकर दोपहर बाद तीन बजे तक होंगे नामांकन 

    यादव ने बताया कि दिन में 11 बजे से लेकर दोपहर बाद तीन बजे तक नामांकन पेपर दाखिल किया जा सकेगा और निर्वाचन अधिकारी के कार्यालय के 100 मीटर के दायरे में उम्मीदवार केवल तीन वाहन लेकर ही जा सकेंगे.  उन्होने बताया कि 19 तारीख को नामांकन पत्रों की जांच की जाएगी और 21 जनवरी तक उम्मीदवार अपना नाम वापस ले सकेंगे. प्रदेश में विधानसभा चुनावों के लिए चार फरवरी हो मतदान होगा.  इससे पहले पंजाब के मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय से मिली जानकारी में कहा गया कि प्रदेश की सभी 117 विधानसभा सीटों पर चुनाव तथा अमृतसर लोकसभा सीट पर उपचुनाव के लिए आज अधिसूचना जारी कर दी गयी है और नामांकन पत्र दाखिल करने का काम शुरु हो गया है. निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि चुनाव आयोग के निर्देशानुसार इस बार ईवीएम पर दलों के उम्मीदवारों की तस्वीर भी लगायी जाएगी जिससे मतदाता एक ही नाम के दो उम्मीदवारों को लेकर किसी प्रकार से भ्रमित नहीं हों. प्रदेश में ऐसा पहली बार होगा.
 प्रदेश में विधानसभा की कुल 117 सीटें हैं इनमें से जालंधर जिले में नौ विधानसभा क्षेत्र हैं. जिले के सभी नौ विधानसभा क्षेत्रों के लिए आम आदमी पार्टी ने अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है. सत्तारुढ़ शिअद ने भी अपने कोटे की छह सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा कर चुकी है. हालांकि, सत्तारुढ़ गठबंधन में शामिल भारतीय जनता पार्टी ने अभी तक राज्य में अपने उम्मीदवारों की सूची जारी नहीं की है. विपक्षी कांग्रेस जालंधर की दो सीटों पर अपने प्रत्याशी के नाम की घोषणा कर चुकी है लेकिन पार्टी ने अब तक जिले में शेष सात सीटों सहित सूबे की 40 सीटों पर उम्मीदवार के नाम का ऐलान नहीं किया है. मौजूदा विधानसभा में जालंधर की सभी नौ सीटों पर सत्तारुढ़ गठबंधन का कब्जा है. शहर की तीनों विधानसभा सीटों पर भाजपा का, जबकि छह पर अकाली दल का कब्जा है. हालांकि जालंधर छावनी के विधायक परगट सिंह, करतारपुर के सरवन सिंह फिल्लौर तथा फिल्लौर के अविनाश चंद्र शिअद छोड़ चुके हैं. परगट और फिल्लौर कांग्रेस में शामिल हो चुके हैं. राजनीतिक जानकारों की मानें तो प्रदेश में शिअद और भाजपा छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए विधायकों के कारण कांग्रेस में टिकट बंटवारे में देरी हो रही है.