हेती में भारतीय शांतिरक्षकों को लगाए गए हैजा के टीके 

 संयुक्त राष्ट्र. संयुक्त राष्ट्र ने हैजा का टीका लगवाए बिना हेती पहुंचे भारतीय शांतिरक्षकों को यह टीका लगाया है. वैश्विक निकाय ने कहा है कि यह शांतिरक्षक भेजने वाले देश की जिम्मेदारी है कि वह यह सुनिश्चित करे कि उसके जवान नियुक्ति से जुड़ी सभी चिकित्सीय अनिवार्यताओं को पूरा करते हों.  संयुक्त राष्ट्र के महासचिव के प्रवक्ता स्टीफन डुजैरिक ने कल अपने दैनिक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि यहां संयुक्त राष्ट्र मिशन (यूनाइटेड नेशन्स स्टेबलाइजेशन मिशन इन हेती-एमआईएनयूएसटीएएच) का कहना है कि जिन गठित पुलिस इकाइयों को मिशन में पहुंचने पर टीका नहीं लगा हुआ था, अब उन्हें टीका लगा दिया गया है. उन्होंने कहा कि जिन्हें अब तक टीके की दूसरी खुराक नहीं मिली है, उन्हें यह लगाया जा रहा है या आगामी दिनों में उन्हें यह लगा दिया जाएगा. पिछले साल अगस्त में भारत से हेती पहुंची 140 सदस्यों वाली पुलिस इकाई को टीका लगाया गया. ऐसा पता चला था कि भारतीय सैनिकों को यहां पहुंचने से पहले हैजा का टीका नहीं लगाया गया था. डुजैरिक ने कहा कि शांतिरक्षा अभियानों में तैनात किए जाने वाले सभी शांतिरक्षकों के लिए हैजा टीकाकरण कराना अनिवार्य है. उन्होंने कहा कि यह सदस्य देशों की जिम्मेदारी है कि वे यह सुनिश्चित करें कि उनके जवानों को तैनाती से पहले सभी अनिवार्य टीके लगे हों. हेती अक्तूबर 2010 से हैजे के प्रकोप से जूझ रहा है. इसके कारण लगभग 7,88,000 लोग प्रभावित हुए हैं और 9,000 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं.