अब सिर्फ चंद सेकंड में चार्ज हो जाएगी इलेक्ट्रिक कार और स्मार्टफोन

 लंदन. ब्रिटेन के वैज्ञानिकों ने एक ऐसा पालीमर विकसित करने में कामयाबी पाई है, जिससे इलेक्ट्रानिक कारों और मोबाइल के क्षेत्र में क्रांति आ सकती है. उन्होंने इस पालीमर से एक ‘सुपर कैपेसिटर’ बनाया है, जो मौजूदा बैटरियों से एक हजार से लेकर 10 हजार गुना तक अधिक शक्तिशाली है. इतना ही नहीं यह महज कुछ सेकंड में ही पूरी तरह चार्ज हो जाती है. इंग्लैंड के सरे, ब्रिस्टल यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों की टीम का दावा है कि इस ‘सुपर कैपेसिटर’ से बनी कार, मोबाइल, लैपटाप आदि उपकरणों की बैटरी कुछ सेकंड में ही फुल चार्ज हो जाएगी और अधिक देर तक चलेगी.

खोज के मुख्य वैज्ञानिक और सरे यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर डा. ब्रेंडन हाउलिन का कहना है कि इससे इलेक्ट्रिक कार, एयरोस्पेस, परिवहन क्षेत्र का व्यापक विकास होगा. ब्रिस्टल यूनिवर्सिटी के प्रो. डा. इयान हैमरटन ने कहा कि अल्ट्रा क्षमता वाले ‘सुपर कैपेसिटर’ का इस्तेमाल सेंसर, इलेक्ट्रानिक उपकरणों की ऊर्जा जरूरतें पूरी करने में हो सकेगा. कारों की माइलेज बढ़ेगी इलेक्ट्रिक कारों की पारंपरिक बैटरी जहां एक बार चार्ज होने पर करीब 85 किलोमीटर चलने में सक्षम होती है, वहीं सुपर कैपेसिटर लगाने पर कार एक बार चार्ज होने पर 666 किलोमीटर चलती है. पारंपरिक बैटरी को चार्ज होने में पांच से छह घंटे लगते हैं, लेकिन यह कुछ पलों में चार्ज हो जाती है. ऐसे करता है काम इस पालीमर से बने सुपर कैपेसिटर की संरचना में बड़ी-बड़ी जैविक आण्विक श्रृंखलाएं होती हैं, जिनमें उप इकाइयों का दोहराव होता है. अणुओं की ये उप इकाइयां साथ मिलकर थ्रीडी नेटवर्क बनाती हैं. इससे सुपर कैपेसिटर तेजी से चार्ज हो जाता है. -हजार गुना अधिक शक्तिशाली है मौजूदा कार की बैटरियों से -गुना बढ़ेगी कार की माइलेज, चार्ज होने पर चलेगी 666 किमी.