Delhi again the result of public negligence in the horror of Corona

दिल्ली सरकार ने पिछले दिनों लोगों को रियायत क्या दी, जनता ने सड़कों व बाजारों में भीड़ कर दी और कोरोना फिर अनियंत्रित हो गया.

दिल्ली सरकार ने पिछले दिनों लोगों को रियायत क्या दी, जनता ने सड़कों व बाजारों में भीड़ कर दी और कोरोना फिर अनियंत्रित हो गया. दिल्ली में कोरोना की तीसरी लहर खतरनाक हो उठी है. हर घंटे 4 लोग जान गंवा रहे हैं. दिल्ली-एनसीआर में पीड़ितों का आंकड़ा 56,53,091 तक जा पहुंचा है. लोगों ने मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया तो यह आपदा फिर गंभीर हो उठी. इसके अलावा धुएं व कोहरे ने परेशानी बढ़ा दी और कोरोना फैलने में इससे मदद मिली. केजरीवाल सरकार ने बढ़ते संक्रमण को देखते हुए बाजार बंद करने का आदेश दिया. कॉन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह व दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल से कहा कि बाजार बंद करने से लाखों व्यापारियों, उनके कर्मचारियों तथा अन्य लोगों के रोजगार पर बुरा असर पड़ेगा. इसलिए कोई भी निर्णय लेने से पहले दिल्ली के व्यापारियों की राय ली जाए. दिल्ली सरकार ने केंद्र से राजधानी के भीड़-भाड़ वाले बाजार बंद करने की अनुमति मांगी है. विवाह समारोह में भी केवल 50 लोगों की मौजूदगी की अनुमति होगी. सरकार ने 200 लोगों की उपस्थिति की इजाजत वापस ले ली है. स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि हालात को नियंत्रित करने के उपाय किए जा रहे हैं. संक्रमण पर काबू पाने में सबका सहयोग जरूरी है.