Case registered

– पुत्रप्राप्ति को लेकर कीर्तन के दौरान किया था विवादग्रस्त बयान

अहमदनगर. पुत्रप्राप्ति के लिए सम-विषम तारीख का फार्मूला कीर्तन के दौरान बयान कर प्रसूतिपूर्व गर्भलिंग चिकित्सा नियंत्रण कानून (पीसीपीएनडी)का उल्लंघन करने के आरोप से मशहूर कीर्तनकार निवृत्ति महाराज देशमुख ( इंदोरीकर) के खिलाफ संगमनेर पुलिस थाने में मामला दर्ज किया गया है. अपने बयान को लेकर इंदोरीकर महाराज ने स्पष्टीकरण  दिया था, जिसे खारिज करने के उपरांत जिलास्तरीय समिति में उनके खिलाफ मामला दर्ज कराने का निर्णय हुआ था.

 इसके बावजूद प्रत्यक्ष रूप से मामला दर्ज न होने के कारण अंधश्रध्दा निर्मूलन समिति की एड.रंजना गवांदे ने कानूनी कार्रवाई के साथ आंदोलन की चेतावनी दी थी. इस पृष्ठभूमि में संगमनेर के वैद्यकीय अधिकारी ने शुक्रवार को पुलिस थाने में इंदोरीकर के खिलाफ दर्ज की शिकायत के अनुसार मामला दर्ज हुआ है.

महिला संगठनों ने की थी मामला दर्ज कराने की मांग 

   एक कीर्तन के दौरान इंदोरीकर महाराज ने सम तिथि पर स्त्री से संबंध बनाने पर लडका होता है. और विषम तिथि पर समागन करने पर लडकी पैदा होती है. ऐसा विवादग्रस्त बयान उन्होंने किया था. जिसके कारण पूरे राज्य में हडकंप मच गया था. अनेक महिला संगठनों ने इंदोरीकर महाराज का तीखे शब्दों में विरोध कर उनके खिलाफ मामला दर्ज कराने की मांग की थी. सामाजिक कार्यकर्ता तृप्ति देसाई ने इंदोरीकर को कालिख पोतने की चेतावनी दी थी. इस दौरान अंधश्रध्दा निर्मूलन समिति ने भी इस विषय में बारबार पृष्ठपोषण कर इंदोरीकर के संबंधित बयान वाले कीर्तन की सीडी पुलिस को पेश की थी. इस दौरान दो घंटों के कीर्तन में एक बार कोई बात गलत बोलना संभव है, ऐसा बताकर इंदोरीकर महाराज ने कीर्तन बंद कर खेती करने की चेतावनी दी थी. 

जिलास्तरीय समिति ने स्पष्टीकरण को खारिज किया 

जिलास्तरीय समिति ने इंदोरीकर महाराज के स्पष्टीकरण को खारिज करते हुए उन पर मामला दर्ज करने का निर्णय किया था. लेकिन प्रत्यक्ष रूप से मामला दर्ज होने में टालमटोल हो रही थी.इस कारण अंधश्रध्दा निर्मूलन समिति की एड. रंजना गवांदे ने आंदोलन की चेतावनी दी थी. आखिर में आज इंदोरीकर के खिलाफ मामला दर्ज होने के बाद इंदोरीकर की परेशानी बढ़ने की आशंका है.