Balasaheb Thorat Meeting

    अहमदनगर. कोरोना महामारी की दूसरी लहर (Second Wave) के दौरान अनेक लोग लापरवाही बरत रहे हैं। जिसके कारण कोरोना (Corona) के संक्रमण में भारी वृध्दि हुई है, लेकिन प्रशासन और संस्थाओं द्वारा किए गए लगातार प्रयासों के कारण अब स्थिति में थोड़ा सुधार हो रहा है, लेकिन ऐसी कठिन स्थिति में कोरोना के खिलाफ लड़ाई में किसी प्रकार की लापरवाही न बरतें। ऐसे स्पष्ट आदेश राजस्वमंत्री बालासाहब थोरात (Revenue Minister Balasaheb Thorat) ने दिए हैं।

    संमगनेर के अमृतवाहिनी इंजीनियरिंग कालेज में संगमनेर तहसील की कोरोना की स्थिति का जायजा लेने के लिए  बैठक की गई। इसमें विधायक डॉ.सुधीर तांबे, नगराध्यक्षा दुर्गा तांबे, सभापति सुनंदा जोर्वेकर, उपसभापति नवनाथ अरगडे, उपनगराध्यक्ष शैलेश कलंत्री, प्रांत अधिकारी डॉ. शशिकांत मंगरूले, उपविभागीय पुलिस अधिकारी राहुल मदने, नगरपालिका के मुख्याधिकारी डॉ.सचिन बांगर, गुटविकास अधिकारी सुरेश शिंदे, डॉ. संदीप कचोरिया, डॉ. राजकुमार जर्हाड, डॉ. सुरेश घोलप, सार्वजनिक निर्माण विभाग के मुख्य अभियंता आर.आर.पाटिल, पुलिस निरीक्षक मुकुंद देशमुख, अमृतवाहिनी संस्था के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अनिल शिंदे,महेश वाव्हल आदि उपस्थित थे।

     तहसील के 50 गांव कोरोना मुक्त हुए

    थोरात ने कहा कि कोरोना मरीजों की संख्या थोड़ी कम जरूर हुई है, लेकिन कोरोना अभी खत्म नहीं हुआ है। इस कारण हर एक को सावधानी बरतना जरुरी है। तहसील के 50 गांव कोरोना मुक्त हुए हैं, लेकिन हर गांव और पूरा तहसील कोरोनामुक्त कराने का उद्देश्य है। विधायक डॉ. तांबे ने  बैठक में मार्गदर्शन किया। प्रांत अधिकारी डॉ. मंगरूले ने हर गांव निहाय कोरोना की स्थिति की जानकारी दी।