छात्र जीवन में ही कंप्यूटर के विभिन्न लैंग्वेज की शिक्षा जरुरी

अहमदनगर. वैद्यकीय क्षेत्र में जिस प्रकार डॉक्टर अपना व्यवसाय शुरू करने से पहले सीखने के दौरान ही प्रैक्टिस करते हैं. ठीक उसी तरह इंजीनियरिंग के छात्रों को भी साफ्टवेयर इंजीनियर के रूप मे काम शुरू करने से पहले छात्र जीवन में ही कंप्यूटर प्रणाली के साथ विविध प्रकार की प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखना जरुरी है. ऐसा प्रतिपादन ई क्लिनिकल वर्क्स के वाइस प्रेसिडेंट सपणकुमार पारीक ने किया.

कालेज के अध्यापकों से साधा संवाद

अमृतवाहिनी इंजीनियरिंग कालेज में कंप्यूटर प्रणाली कौशल, गुणवत्ता, जिम्मेदारी विषय पर आयोजित चर्चा सत्र में पारीक बोल रहे थे. संस्था के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अनिल शिंदे, प्राचार्य डॉ.एम.ए.व्यंकटेश आदि मंच पर उपस्थित थे. इस चर्चा सत्र में कालेज के अध्यापकों से संवाद करते हुए समण कुमार पारीक ने कहा कि इंटरनेट के कारण पुरा विश्व एक हुआ है. लाकडाउन के दौरान आनलाइन शिक्षा और अन्य व्यवहारों के कारण आयई क्षेत्र का महत्व बढ़ा है. इस क्षेत्रों में छात्रों को नए अवसर उपलब्ध हो रहे हैं. इस कारण छात्रों को कंप्यूटर की विविध प्रकार की लैंग्वेज का ज्ञान होना आवश्यक बना हैं. इन बातों के मद्देनजर छात्र जीवन में ही कंप्यूटर प्रणाली के साथ-साथ छात्रों  को कंप्यूटर प्रोग्रामिंग की विविध लैंग्वेज सीखना जरुरी है.

सुविधाओं की जानकार दी

अनिल शिंदे ने अमृतवाहिनी इंजीनियरिंग कालेज में उपलब्ध सुविधाओं की जानकारी देते हुए कहा कि राजस्वमंत्री बालासाहब थोरात और विधायक डॉ. सुधीर तांबे के मार्गदर्शन में कालेज में हमेशा ही छात्रों के लिए नवीन उपक्रम किए जाते हैं. प्राचार्य डायव्यंकटेश ने भी मार्गदर्शन किया.