भारत को महासत्ता बनाना देश के युवकों के हाथ में

– संजीवनी उद्योग समूह के अध्यक्ष बिपिन कोल्हे का प्रतिपादन

अहमदनगर. संजीवनी फाऊंडेशन के विशेष प्रयासों के कारण कोविड-19 महामारी के दौरान कोपरगांव तहसील के जरूरतमंद युवकों को अनेक मल्टीनेशनल कंपनियों में रोजगार उपलब्ध हुआ है. ऐसी स्थिति में युवकों को प्रामाणिकता से काम करते हुए जिस जगह पर कार्यरत होंगे उस जगह की प्रगति के लिए प्रयास करना चाहिए. दिशा दिखाने का काम संजीवनी फाऊंडेशन ने किया है. कठिन स्थिति में अपने को साबित करते हुए देश की प्रगति करना जरुरी है. भारत देश को महासत्ता बनाना युवकों के ही हाथ में है.ऐसा प्रतिपादन संजीवनी उद्योग समूह के अध्यक्ष बिपिन कोल्हे ने किया.

 कुछ दिन पहले संजीवनी फाऊंडेशन के माध्यम से कोपरगांव तहसील के 480 जरूरतमंद युवकों को विविध कंपनियों ने नौकरी के लिए चयनित किया. इन युवकों को मार्गदर्शन करने हेतु आयोजित कार्यक्रम में बिपिन कोल्हे बोल रहे थे. संजीवनी फाऊंडेशन के सेक्रेटरी युवा नेता सुमित कोल्हे, संजीवनी इंजीनियरिंग कालेज के आर एंड डी विभाग के डीन डॉ.आर.ए.कापगते उपस्थित थे. 

सुमित कोल्हे ने नौकरी के लिए चयनित युवकों का स्वागत किया. उन्होंने कहा कि संजीवनी उद्योग समूह के अध्यक्ष बिपिन कोल्हे और संजीवनी ग्रुप आफ इन्स्टिट्यूट संस्था के मैनेजिंग ट्रस्टी अमित कोल्हे के मार्गदर्शन में इस उपक्रम का आयोजन किया गया था. आनेवाले समय में भी सुशिक्षित बेरोजगार युवकों को नौकरियां दिलाने के लिए संजीवनी फाऊंडेशन कटिबध्द है.