अमृतवाहिनी बैंक का कामकाज सराहनीय

  • राजस्वमंत्री बालासाहब थोरात का प्रतिपादन

अहमदनगर. सहकार के कारण संगमनेर तहसील में ग्रामीण अर्थ व्यवस्था काफी मजबूत हुई है. अमृतवाहिनी नागरी सहकारी बैंक ने लगातार किसानों की मदद के लिए काम किया है. इस बैंक का गुणवत्ता पूर्वक कारोबार निश्चित ही सराहनीय है. ऐसा प्रतिपादन कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष राजस्वमंत्री बालासाहब थोरात ने किया.

संगमनेर शहर के मार्केट यार्ड परिसर में सहकार महर्षि भाऊसाहब थोरात अमृतवाहिनी बैंक की नई इमारत का उद्घाटन थोरात के हाथों किया गया. इस अवसर पर थोरात बोल रहे थे. बैंक के चेयरमैन अमित पंडित की अध्यक्षता में आयोजित इस समारोह के लिए उद्योजक राजेश मालपाणी, बाजीराव खेमनर पाटिल, बाबासाहब ओहोल, दिलीप पुंड, कांचन थोरात, सुनंदा जोर्वेकर, राजेंद नागवडे, ज्ञानदेव वाफारे, उपाध्यक्ष दत्तात्रय खुले, किरण पाटिल, डॉ. जयश्री थोरात आदि उपस्थित थे. इस अवसर पर कोरोना संकट समय में उत्कृष्ट काम करनेवाले बैंक और प्रशासन के अधिकारी और कर्मियोंका सत्कार किया गया. 

कोरोना का संकट अभी खत्म नहीं हुआ 

इस अवसर पर राजस्वमंत्री थोरात ने कहा कि कोरोना के संकट के कारण विगत 8 महिनों से विविध प्रकार की पाबंदी लगी है. इस संकट पर मौजूदा स्थिति में थोड़ा काबू किया गया है, लेकिन कोरोना का संकट अभी खत्म नहीं हुआ है. दिवाली के दौरान नागरिकों ने पटाखे मुक्त दिवाली के साथ सभी नियमों का पालन करना जरूरी है. अमृतवाहिनी बैंक के अध्यक्ष अमित पंडित ने अपने भाषण में बैंक के विगत 25 सालों में की गई प्रगति की जानकारी दी. निलेश पर्वत और प्राध्यापक बिहाणी ने कार्यक्रम का सूत्र संचालन किया. उपाध्यक्ष दत्तात्रय खुले ने आभार व्यक्त किए. सारेगमप फेम विश्वजित बोरवणकर के मधुर संगीत रजनी का कार्यक्रम का भी आयोजन किया था.