कोरोना संक्रमण के कारण टूटी यह परंपरा

  • कोरंठण खंडोबा मंदिर में चंपाषष्ठी उत्सव रद्द

अहमदनगर. कोरोना (Corona) महामारी की पृष्ठभूमि पर राज्य समेत लाखों श्रध्दालुओं के श्रद्धा का स्थान माने जाने वाले पारनेर तहसील के पिंपलगांव रोठा के कोरंठण खंडोबा देवस्थान (korthan Khandoba Devasthan) की ओर से इस वर्ष 20 दिसंबर को होने वाला चंपाषष्ठी उत्सव समेत दिसंबर महीने में होने वाले कीर्तन महोत्सव, सोमवती अमावस्या (Somvati amavasya) उत्सव आदि सभी धार्मिक कार्यक्रम रद्द करने का निर्णय देवस्थान ने किया है। यह जानकारी देवस्थान के अध्यक्ष एड. पांडुरंग गायकवाड़ ने दी।

बैठक में इनकी रही उपस्थिति

कोरंठण खंडोबा देवस्थान (korthan Khandoba Devasthan) के ट्रस्टियों की बैठक में अध्यक्ष गायकवाड, उपाध्यक्ष गंगाराम बेलकर, सहसचिव मनिषा जगदाले, न्यासी किसन धुमाल, मोहन घनदाट, अमर गुंजाल, चंद्राभन ठुबे, किसन मुंडे, बन्सी ढोमे, दिलिप घोडके आदि उपस्थित थे। इस बैठक में कोरोना महामारी के मद्देनजर उत्सव के बारे में बारीकी से चर्चा की गई।

ये सभी कार्यक्रम हुए रद्द

चंपाषष्ठी महोत्सव के साथ 11 से 18 दिसंबर तक आयोजित कीर्तन सप्ताह, 14 दिसंबर का सोमवती अमावस्या महोत्सव का आयोजन रद्द कराने का निर्णय किया गया। इसके अनुसार चंपाषष्ठी के लिए दिंडी, पालकी, कीर्तन, महाप्रसाद, सत्संग समारोह, खंडोबा गान स्पर्धा आदि कार्यक्रमों का आयोजन नही होगा। सरकार के निर्णय के अनुसार 26 नवंबर से देवस्थान ने सभी नियमों का पालन करते भाविकों के दर्शन के लिए मंदिर खुला किया है। ऐसी जानकारी एड। पांडुरंग गायकवाड़ ने दी।