लोक अदालत में 1,146 प्रकरणों का निपटारा – 10 करोड़ 40 लाख रू. की वसूली

अकोला. जिल व सत्र न्यायालय सहित जिले की न्यायालयों में राष्ट्रीय लोक अदालत आयोजित की गयी. जिसमें 1,146 न्यायप्रविष्ठ प्रकरणों का आपसी समझौता कर निपटारा किया गया. इन प्रकरणों से कुल 10 करोड़ 40 लाख 6,525 रू. की वसूली किए जाने की जानकारी सूत्रों से मिली है. मुंबई उच्च न्यायालय के न्यायमुर्ति, महाराष्ट्र राज्य विधि सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष ए.ए. सय्यद, मुंबई उच्च न्यायालय की नागपुर खंडपीठ के न्यायमुर्ति जेड.ए. हक व राज्य विधि सेवा प्राधिकरण, मुंबई के सदस्य सचिव अभय मंत्री के उद्घाटन किए जाने के बाद 22 बेंच पर प्रकरण चलाए गए.

न्यायप्रविष्ठ सैकड़ों प्रकरण इस अदालत में सामने रखे गए. पार्टियों की उपस्थिति में इन मामलों का सौहार्दपूर्ण ढंग से निपटारा किया गया. प्रमुख जिला व सत्र न्यायाधीश तथा जिला विधि सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष यनशिवराज खोब्रागडे के मार्गदर्शन में विधि सेवा प्राधिकरण के सचिव एस.एस. बोस ने यह मुहिम सफलातापूवर्क चलायी गयी. इस समय पक्षकार, वकील आदि उपस्थित थे. लोक अदालत में वर्षों से प्रलंबित मामलों को बिना किसी लागत के संभाला जाता है और मामलों का निपटारा सौहार्दपूर्वक किया जाता है.

धन की वसूली से संबंधित 241 मामलों का निपटारा किया गया. जिसमें 58 लाख 22 हजार 82 रू. को समझौता राशि के रूप में वसूली की गयी, जबकि वाहन दुर्घटना से संबंधित 176 मामलों का निपटारा किया गया. उसके माध्यम से 60 लाख रुपये की समझौता राशि बरामद की गई. सबसे अधिक वसूली धनादेशों के अनादरण प्रकरणों में की गयी है.

जिसके 146 प्रकरण बेंच पर चलाए गए थे. इसमें कुल 4 करोड़ 13 लाख 97 हजार 353 रू. की वसूली समझौता राशि के रूप में प्राप्त हुई है. इसके बाद बीएसएनएल, सिविल दावे, पानी से संबंधित भुगतान, वैवाहिक मामले, आपराधिक कम्पाउंडेबल मामलों का निपटारा किया गया.