accident

  • एक की हालत गंभीर

अकोट. गुरूवार की सुबह मॉर्निंग वॉक के लिए जानेवाले 4 व्यक्तियों को तेज गति से दौड़ रहे टाटा-एस (क्र.एमएच-20 डीई-7433) चौपहिया वाहन की चपेट में आने से एक व्यक्ति की जगह पर ही तथा दो व्यक्तियों की उपचार के लिए ले जाते समय मौत होने की घटना राजमार्ग के अंजनगांव रोड पर सुबह 6 बजे हुई. हादसा इतना गंभीर था कि दुर्घटना का कारण बना वाहन सड़क के किनारे पलट गया था.

इस दुर्घटना में उत्तम नाठे निवासी रामटेकपुरा, अकोट की घटना स्थल पर ही मौत हो गयी तथा शालिग्राम राऊत, गजानन नेमाड़े की उपचार के दौरान मौत हो गयी तथा अनंत बोरोडे को गंभीर अवस्था में उपचार के लिए अकोला के लिए भेजा गया है. यह चारों प्रतिदिन की तरह सुबह की सैर के लिए निकले थे तभी एक तेज रफ्तार वाहन ने उन्हें टक्कर मार दी. सुबह घूमने वाले लोगों ने अकोट थाने को इस घटना की जानकारी फोन पर दी.

जानकारी मिलने पर अकोट शहर पुलिस स्टेशन के कर्मचारियों के साथ ग्रामीण पुलिस स्टेशन के थानेदार ज्ञानोबा फड घटना स्थल पर पहुंचे. पुलिस ने वाहन चालक को गिरफ्तार कर आगे की जांच शुरू की. घटना की जानकारी मिलने पर शहर के नागरिक भी घटनास्थल और अस्पताल पहुंचे.

अकोट-अंजनगांव सड़क का निर्माण कार्य अभी पूरा हुआ है और सड़क के किनारे घनी आबादी वाली बस्तियां और घर हैं. इसलिए नागरिक, बूढ़े लोग सुबह इस राजमार्ग पर टहलने जाते हैं. पिछले कई वर्षों से लोग इस क्षेत्र में आ रहे हैं. सुबह के समय सैर करनेवालों की भीड़ दिखाई देती है, लेकिन गुरुवार की सुबह इन तीनों के लिए घातक साबत हुई है. 

टहलने जाते समय स्वयं का ध्यान रखें

मॉर्निंग वॉक के लिए जाते समय वाहन की चपेट में आने की घटनाएं हो रही है. जिससे यातायात रहनेवाले रास्तों पर सैर के लिए जाते समय सतर्कता बरतना जरूरी है. जरूरी न हो तो अधिक यातायात वाली सड़कों को सैर के लिए जाना टालना चाहिए. क्योंकि आप कितना भी सतर्क रहे, चालकों की गलती आप के लिए जानलेवा हो सकता है. इसके लिए भी जागरूक होने की जरूरत है.

इसी तरह की घटना अकोला में हुई थी

कुछ साल पहले इसी तरह की घटना अकोला के डा.पंजाबराव देशमुख कृषि विश्वविद्यालय के सामने घटी थी जिसमें सुबह एक व्यक्ति वाहन की चपेट में आया था. ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो इसके लिए सतर्कता बरतना बहुत जरूरी हो गया है. इसलिए, राजमार्गों से बचने और सुरक्षित स्थानों पर सैर के लिए जाना ही बेहतर विकल्प है.

अकोला महानगर में सैर के लिए जाने के विशिष्ट स्थान है, सुबह के समय इन भागों में लोगों की अधिक भीड़ रहती है. यह भी कहा जा रहा है कि ग्रामीण इलाकों में भी, लोगों को राजमार्गों से दूर रखने से दुर्घटनाओं को रोका जा सकता है.