Only 57 percent water left in dams

    अकोला. अकोला शहर को जलापूर्ति करने वाले महान स्थित काटेपूर्णा बांध से खेतों की सिंचाई के लिए अब तक पानी छोड़ा जा रहा था. जिससे अब तक अकोला, बार्शीटाकली और मुर्तिजापुर तहसील के गांवों को सिंचाई का लाभ मिला है. कुल 5,225 हेक्टेयर कृषि भूमि सिंचित की गई है और गेहूं और चने की फसलें ली जा सकी है.

    इस वर्ष हालांकि छिड़काव सिंचाई की मात्रा में वृद्धि के कारण सिंचाई के लिए पानी पिछले साल की तुलना में कम लगा है. इस वर्ष गेहूं का उत्पादन चने की तुलना में कम था. गेहूं का प्रति एकड़ उत्पादन 15 से 20 क्विंटल और चने का 8 से 12 क्विंटल था. सिंचाई के लिए पानी की आपूर्ति के बाद भी बांध में 41.41 प्रतिशत पानी का भंडारण होता है.

    इसलिए अकोलावासियों के लिए इस गर्मी में चिंता करने का कोई कारण नहीं है. इस वर्ष बांध में प्रचुर मात्रा में पानी का भंडार होगा. शहर में कुछ वर्ष पूर्व भीषण जलसंकट की स्थिति उपत्पन्न हो गयी थी, लेकिन अब स्थिति बेहतर है.