Flood water flowing over Dodkuli culvert, many roads stalled
File Photo

    • अकोला-अकोट मार्ग बंद होने की कगार पर

    अकोला. अमरावती और दर्यापुर इलाकों में शनिवार और रविवार को हुई मूसलाधार बारिश के चलते गांधीग्राम में पूर्णा नदी का जलस्तर अचानक बढ़ है. जिससे अकोला-अकोट गांधीग्राम मार्ग बंद होने की संभावना है क्योंकि पुल धारा से केवल 2 फीट ऊंचा है. बाढ़ के पानी को देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग जमा होने के कारण जिला प्रशासन ने नागरिकों से सतर्क रहने की अपील की है. इस बीच जिले के 22 नदी किनारे गांवों को अलर्ट कर दिया गया है.

    अकोला से अकोट की ओर जाने के लिए कई लोग गांधीग्राम मार्ग का उपयोग करते हैं. अमरावती और दर्यापुर इलाकों में शनिवार और रविवार को हुई भारी बारिश से पूरे नदी पात्र में जलस्तर काफी बढ़ गया है. गांधीग्राम से होकर बहने वाली इस नदी पर गांधीग्राम का पुल बाढ़ के मैदान से महज दो फीट नीचे है. इसलिए इस सड़क से कभी भी पानी बह जाने की आशंका बनी रहती है और इसलिए सड़क को बंद कर दिया जाता है. जिला प्रशासन ने लोगों से सतर्क रहने की अपील की है.

    मुर्तिजापुर तहसील में खेतों में जमा हुआ पानी

    मुर्तिजापुर तहसील में रविवार को कुरुम, माधापुरी, पिंगला और रामटेक क्षेत्रों में भारी बारिश के कारण फसल जलमग्न हो गई. कुछ जमीन की मिट्टी बह जाने के भी समाचार हैं. बांध टूटने और जमीन बहने के मामले भी सामने आए हैं. इसका खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ रहा है. माधापुरी स्थित रवि मोहिते के पोल्ट्री फार्म में पानी घुस जाने से कई मुर्गियों की मौत हो गई. इसमें उन्हें काफी नुकसान हुआ है. जलभराव से कई फसलों के सड़ने का खतरा है.

    कई किसानों के खेतों में बाढ़ से सोयाबीन, कपास और तुअर की फसल को भारी नुकसान हुआ है. भारी बारिश से फसल पीली पड़ने की आशंका जताई जा रही है. इस बीच, मुर्तिजापुर तहसील में लगभग 75 प्रश बुआई पूरी हो चुकी है. अगले तीन दिनों में 90 प्रश क्षेत्र में बुआई पूरी की जा सकती है. पिछले हफ्ते में सभी ओर बारिश होने से किसानों को राहत मिली है. हालांकि कुछ किसान बारिश से प्रभावित हुए हैं, यह जानकारी तहसील कृषि अधिकारी अमृता काले ने दी है. 

    कुरुम – रेलवे स्टेशन का आधा रास्ता बह गया

    राष्ट्रीय राजमार्ग क्र.6 पर कुरुम गांव और कुरुम रेलवे स्टेशन के बीच पुल के पास की आधी सड़क मूसलाधार बारिश के कारण बह गई है और पुलिया भी टूट चुकी है. रविवार को सुबह 4 से 5 बजे के बीच कुरुम, मधापुरी, पिंगला और रामटेक इलाकों में भारी बारिश हुई. ऐसे में इस सड़क पर आना-जाना खतरनाक हो गया है. इस सड़क का उपयोग बड़ी संख्या में किसान भी करते हैं.

    कुरणखेड़ के साप्ताहिक बाजार में जमा हुआ पानी

    कुरणखेड़ में हर रविवार को साप्ताहिक बाजार लगाया जाता है. बारिश के कारण इस बाजार की सड़क जलजमाव के कारण कीचड़युक्त हो गई है. क्षेत्र के नागरिकों ने ग्राम पंचायत प्रशासन पर ध्यान न देने का आरोप लगा रहे हैं. बाजार में हफ्तों पानी जमा रहने से लोगों को कीचड़ में चलना पड़ता है. इस बाजार में ढगा, कोठारी, खड़का, पैलपाड़ा आदि गांव से लोग किराने का सामान खरीदने के साथ-साथ बाजार करने के लिए आते हैं. साप्ताहिक बाजार के साथ-साथ गांव की अंदरूनी सड़कों की स्थिति भी बेहद खराब है. सड़क पर चलना भी मुश्किल हो रहा है. क्षेत्रवासियों ने मांग की है कि बाजार में जर्जर सड़कों की समस्या का जल्द से जल्द समाधान किया जाए.