File Photo
File Photo

    अकोला. जिले के अधिकांश निजी स्कूल अभिभावकों से बेवजह फीस वसूल रहे हैं. इसलिए इन सभी निजी स्कूलों का ऑडिट किया जाना चाहिए और ऑडिट में दोषी पाए गए स्कूलों की मान्यता रद्द की जानी चाहिए, यह मांग फुले आम्बेडकरी राष्ट्रीय विद्यार्थी युवक संगठन की ओर से जिलाधिकारी कार्यालय के सामने धरना आंदोलन कर की गयी है.

    पिछले डेढ़ साल में, कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सख्त प्रतिबंध लगाए गए हैं, जिससे कई बेरोजगार हो गए हैं. व्यापारी और खुदरा विक्रेता वित्तीय संकट में हैं, और आम नागरिक आर्थिक रूप से पीड़ित हैं. महंगाई के कारण जीवनयापन करना मुश्किल हुआ है. लेकिन ऐसे मामलों में भी शिकायतें हैं कि कुछ निजी स्कूल अभिभावकों से अनुचित शुल्क वसूल रहे हैं.

    इसलिए शिक्षण संस्थानों से अनुचित शुल्क की वसूली पर रोक लगाई जाए, इस मांग के लिए फुले आम्बेडकरी राष्ट्रीय विद्यार्थी युवक संगठन की ओर से जिलाधिकारी कार्यालय के सामने धरना आंदोलन कर मांगों का निवेदन दिया गया है.

    इस धरना आंदोलन में संगठन के जिलाध्यक्ष महेंद्र भोजणे, जयप्रकाश दामोदर, तुषार पुंडे, जीवन दारोकार, चंद्रशेखर नकाशे, मनीष सावले, प्रभाकर वानखड़े, राहुल सिरसाट के साथ साथ संगठन के अनेक पदाधिकारी शामिल हुए थे.