Relieving the scorching sun in Washim

  • मनपा के साथ साथ संबंधित विभागों का ध्यान नहीं

अकोला. शहर के मुख्य मार्गों के साथ साथ अनेक क्षेत्रों में दोपहर तथा शाम के वक्त धूल के बादल देखे जा सकते हैं. धूल के साथ साथ अब प्रदूषण भी बहुत अधिक बढ़ता हुआ दिखाई दे रहा है. सड़कों पर तो धूल जमी हुई रहती ही है. थोड़ी भी तेज हवा चलने पर वह धूल उड़ने लगती है और सड़कों पर से आने जानेवाले लोगों को इस धूल से काफी तकलीफ हो जाती है.

शहर के सभी मुख्य मार्गों पर वाहनों के धुएं और धूल मिश्रित प्रदूषण के कारण लोगों को बहुत तकलीफ होने लगी है. गांधी रोड, तिलक रोड, ओपन थिएटर रोड, जैन मंदिर रोड, पुराना कपड़ा बाजार, मोहम्मद अली रोड, स्टेशन रोड, जठारपेठ रोड, उमरी रोड, राऊतवाड़ी रोड इसी तरह पुराना शहर में हरिहर पेठ रोड, जयहिंद चौक, डाबकी रोड, अकोट रोड आदि कई मार्ग ऐसे हैं जहां पर धूल और प्रदूषण काफी बढ़ा हुआ है. इस तरह अब शहर का कोई मार्ग धूल, प्रदूषण से मुक्त नहीं है. 

अनेक सड़कों पर जमी है धूल

शहर में पिछले कुछ वर्षों में अनेक सड़कों का नवीनीकरण किया गया है. बड़ी संख्या में सड़कों का सीमेंटीकरण हुआ है. उस में से कुछ सड़कें ऐसी हैं जो अभी से टूटने फूटने लगी हैं. इस कारण भी उन सड़कों पर धूल उड़ती रहती है. इसी तरह अनेक सड़कों पर एक ओर धूल दिखाई देती है. एक तो फूटी हुई सड़कों की धूल उस पर सड़क पर जमी हुई धूल जब थोड़ी भी हवा आने पर उड़ने लगती है तो सड़कों पर वाहन चलाने वालों की हालत खराब हो जाती है. धूल के बादल कई बार सड़कों पर देखे जा सकते हैं.

कई वाहन छोड़ते हैं काला धुआं

एक तो पहले ही धूल से लोग परेशान हैं. उस पर कुछ ऑटो रिक्शे और कुछ पुराने वाहन अपने पीछे काला धुआं छोड़ते चलते हैं. इस तरह धूल के साथ साथ काले धुएं का प्रदूषण भी लोगों की स्थिति खराब करता है और लोगों के स्वास्थ्य के लिए भी खतरा निर्माण करता है. वाहनों का काला धुआं और धूल के कारण अब लोगों को चेहरे और आंखों में जलन होने लगी है. इस तरह लोग इस धूल और प्रदुषण से अब त्रस्त हो गए हैं. 

नए निर्माण कार्य शुरू

शहर में कुछ स्थानों पर सड़कों का निर्माण हो रहा है. उस पर शहर के मध्य भाग में जेल के सामने से लेकर अकोला क्रिकेट क्लब तक उड़ान पुल का निर्माण किया जा रहा है. इसी तरह दूसरे उड़ान पुल का निर्माण कार्य दक्षता नगर के गेट के सामने से एनसीसी कार्यालय तक शुरू है. यहां भी काफी धूल उड़ती रहती है. इस ओर भी ध्यान दिया जाना बहुत जरुरी है. क्योंकि बढ़ती हुई धूल और प्रदूषण के कारण अब लोगों की आंखें और चेहरा भी प्रभावित होने लगा है. 

पालकमंत्री की सूचना के बाद भी ध्यान नहीं

अकोला के पालकमंत्री बच्चू कडू ने भी इस धूल ओर प्रदूषण की दखल लेते हुए आदेश दिए थे कि संबंधित विभाग तुरंत इस धूल और प्रदूषण को समाप्त करें, जिससे लोगों को राहत मिल सके. उसके बाद थोड़े समय के लिए सफाई अभियान शुरू हुआ था. अब फिर मुख्य मार्गों की वही स्थिति है. संबंधित प्रदूषण नियंत्रण विभाग भी इस ओर गंभीरता से ध्यान नहीं दे रहा है. 

सड़कों की युद्ध स्तर पर सफाई जरूरी

शहर की सभी मुख्य सड़कों की युद्ध स्तर पर सफाई जरूरी है. जिन जिन सड़कों पर धूल जमी हुई हैं. उन सड़कों की सफाई और धुलाई भी बहुत जरूरी है. मनपा का काम है कि एक बार शहर के सभी मार्गों पर जमी धूल को युद्ध स्तर पर साफ करवाएं.