जिले में शाला शुरू करने के लिए संभ्रम की स्थिति, पालकों में संभ्रम, वैक्सीनेशन नहीं

    अकोला. सरकार के परिपत्र नुसार कोरोना मुक्त गांवों में 8वीं से 12वीं तक की शालाएं शुरू करने की तैयारी शिक्षा विभाग ने की है़  लेकिन अभी तक जिले में 8वीं से 12वीं तक की शालाएं शुरू करने के लिए संभ्रम की स्थिति नजर आ रही है़  क्योंकि पालकों में संभ्रम की स्थिति और छात्रों में वैक्सीनेशन ना होने से पालक वर्ग में डर का वातावरण है. पिछले डेढ़ वर्ष से कोरोना पर आफलाइन शिक्षा बंद है़.

    वर्तमान स्थिति में कोरोना संक्रमण नियंत्रण में आने से ग्रामीण भागों के कोरोना मुक्त गांवों में शाला शुरू करने की तैयारी शिक्षा विभाग ने शुरू की है़  इसके लिए सरकार के निर्देश नुसार 15 जुलाई तक शाला शुरू करने का प्रस्ताव प्रस्तुत करने की सूचना दी है़  लेकिन अभी इसके लिए पालकों की ओर से संभ्रम की स्थिति दिखाई दे रही है. जिससे अब शालाएं शुरू होने के लिए जिले में संभ्रम की स्थिति है़.