पेड़ कटाई के खिलाफ, वंचित बहुजन आघाड़ी ने किया ‘चिपको आंदोलन’

अकोला. अकोला-बार्शीटाकली रास्ते का चौड़ाइकरण करने के लिए रास्ते के दोनों ओर लगे हुए कई वर्ष पुराने लगभग 1800 पेड़ों की कटाई के कार्य को वंचित बहुजन आघाड़ी की ओर से विरोध प्रदर्शन करते हुए चिपको आंदोलन कर जिला प्रशासन का ध्यान खिंचा है. इसे देखते हुए संबंधित अधिकारी, तहसीलदार तथा थानेदार ने घटना स्थल पर पहुंचकर वंचित के पदाधिकारियों से बातचीत की और नये पेड़ लगाए बिना पुराने पेड़ों की कटाई नहीं किए जाने का आश्वासन देने के बाद वंचित ने अपना आंदोलन समाप्त किया.

वंचित के प्रदेश प्रवक्ता राजेंद्र पातोंडे की उपस्थिति में आयोजित आंदोलन में जिलाध्यक्ष प्रमोद देंडवे, प्रभा शिरसाट, राजकुमार दामोदर, सचिन शिराले के नेतृत्व में ‘वृक्ष बचाओ, चिपको आंदोलन’ कान्हेरी सरप में किया गया. शाखा अभियंता, तहसीलदार गजानन हामंद, थानेदार तिरुपति राणे ने आंदोलन स्थल को भेंट दी. इस अवसर पर वंचित की मांग के अनुसार, नये पेड़ लगाने के बाद ही पुराने पेड़ों को हटाया जाएगा, यह शाखा अभियंता ने स्पष्ट किया. जिसके बाद वंचित के पदाधिकारियों ने आंदोलन समाप्त किया.