दमदार बारिश के बाद खरिफ बुआई के लिए किसानों की गतिविधियां बढ़ीं

    • इस वर्ष किसानों को समुचित बारिश की उम्मीद
    • समुचित बारिश के बाद ही बुआई करें-डा.भाले

    अकोला. अकोला जिले में मानसून की पहली बारिश ही काफी दमदार हुई है. जिले के कुछ स्थानों पर बारिश अधिक तथा कुछ स्थानों पर कम लेकिन बारिश हुई है. जोरदार बारिश के कारण किसान काफी हर्षित देखे जा रहे हैं. और एक दो दमदार बारिशों का इंतजार किसानों को है. उसके बाद किसान खरिफ फसलों की बुआई शुरू करेंगे. 

    किसान लगे कामों में

    इस समय किसान खरिफ फसलों की बुआई के लिए अपने अपने खेतों को ठीक करने में लगे हैं. कुछ किसान ट्रैक्टर द्वारा खेतों की जमीन की मशागत में लगे हैं. कुछ क्षेत्रों में किसानों द्वारा खेतों में से कचरा निकालकर बुआई के लिए खेतों को तैयार किया जा रहा है. पहली ही बारिश अच्छी होने के कारण किसानों का कहना है कि इस बार खरिफ फसलों की बुआई की शुरूआत बहुत अच्छी तरह से होगी. अनेक किसानों ने तो अपने खेत पूरी तरह से ठीक कर लिए हैं. इन किसानों का कहना है कि जैसे ही एक दो और अच्छी बारिश हो जाती है तो खरिफ फसलों की बुआई शुरू की जाएगी. 

    कृषि सेवा केंद्रों में भीड़

    खरीफ फसलों की बुआई को लेकर बड़ी संख्या में किसान बुआई के लिए खाद, बीज और पेस्टीसाइड खरीद रहे हैं. इसी कारण कृषि सेवा केंद्रों में भीड़ देखी जा रही है. जिले के ग्रामीण क्षेत्रों से किसान अकोला जिला मुख्यालय पहुंच रहे हैं. अब तक एसटी बसें भी शुरू हो गई हैं. महाबीज के सोयाबीन के बीज की कमी होने के कारण अधिक दामों में उपलब्ध अन्य कंपनियों के महाबीज के सोयाबीन के बीज किसान खरीद रहे हैं.

    जिन किसानों को फसल कर्ज मिल गया है वे तो बीज खरीद ही रहे हैं, जिन किसानों को अभी तक कर्ज नहीं मिला है उसमें से भी बहुत से किसान निजी स्तर पर पैसों का इंतजाम कर के बीज, खाद आदि खरीदने में लगे हुए हैं. किसानों का कहना है कि यदि शीघ्र ही दो तीन बार अच्छी बारिश हो जाएगी तो बुआई शुरू करनी पड़ेगी. इसलिए बीज की कमी नहीं पड़नी चाहिए. 

    समुचित बारिश होने पर ही बुआई करें

    डा.पंजाबराव देशमुख कृषि विश्वविद्यालय के उप कुलपति डा.विलास भाले का कहना है कि जिले में अच्छी बारिश हुई है. फिर भी जब तक 80 मि.मी. बारिश नहीं होती तब तक किसान बुआई न करें. अच्छी बारिश जिले में सभी जगह होनी चाहिए. जिससे आनेवाले समय में यदि बुआई के बाद बारिश में कुछ देरी भी हो गई तो फसलों पर तनाव नहीं पड़ेगा, क्योंकि जमीन में अच्छी बारिश के कारण नमी बनी रहेगी. इसी तरह अच्छी बारिश और बीजों की उपलब्धता देखते हुए ही बुआई की शुरूआत करें. इस ओर ध्यान दिया जाना बहुत जरूरी है.