असमय बारिश से जिले में 4.5 हजार हेक्टेयर से अधिक क्षेत्रों में फसलों का नुकसान

    • किसानों को आर्थिक मदद जरूरी

    अकोला. प्राप्त जानकारी के अनुसार असमय बारिश तथा ओलावृष्टि से जिले में गेहूं और चने की फसलें निकालने में किसानों को काफी तकलीफ का सामना करना पड़ा. इसी तरह कृषि विभाग द्वारा प्राथमिक अहवाल में जिले में 4 हजार 770 हेक्टेयर क्षेत्र में फसलों के नुकसान की जानकारी मिली है. इसी तरह मुर्तिजापुर में 113.10 हेक्टेयर, पातुर में 595.42 हेक्टेयर, बार्शीटाकली में 11.82 हेक्टेयर तथा सर्वाधिक नुकसान अकोट तहसील में 4,050 हेक्टेयर बताया गया है.

    बाद में भी हुआ नुकसान

    इसी तरह अकोला, तेल्हारा, बालापुर तहसीलों में नुकसान की जानकारी नहीं है. इसके अलावा भी पिछले दो दिनों में जिले के अनेक क्षेत्रों में असमय तेज बारिश तथा ओलावृष्टि के समाचार हैं. ऐसा लगता है कि आनेवाले समय में कृषि विभाग को और भी नुकसान की जानकारी मिलेगी. फिलहाल खेतों में गेहूं, चना, प्याज की फसलें खड़ी हैं. मुर्तिजापुर, बार्शीटाकली, पातुर, अकोट तहसीलों में गेहूं, नींबू, पपीता, प्याज, आम व चने की फसलों के साथ साथ सब्जियों की फसलों को भी हानि पहुंची हैं. 

    किसानों को मदद जरूरी

    हाल ही में ओलावृष्टि तथा असमय हुई अत्यधिक बारिश के कारण अनेक क्षेत्रों में किसानों की अनाज की फसलों के साथ साथ फलबागों और सब्जियों की फसलों का भी काफी नुकसान हुआ है. उस अनुसार कृषि विभाग ने उन सभी क्षेत्रों का सर्वेक्षण कर के सरकार को अहवाल भेजना चाहिए. इसी तरह सभी जनप्रतिनिधियों का काम है कि सरकार पर दबाव बनाकर किसानों को जितनी आर्थिक मदद हो सके उतनी दिलवानी चाहिए. क्योंकि इस तरह अचानक फसलों को धक्का लगने से किसानों की स्थिति काफी खराब हो गयी है.