death

  • एक महिला की लाश मिली, बेटी की खोज जारी

अकोला. तहसील के एक ग्राम में दर्शन के लिए आयी मां-बेटी मंगलवार की सुबह पूर्णा नदी में आयी बाढ़ में बह गयी. जिसमें 60 वर्षीय महिला की लाश सुबह 10 बजे लाखपुरी के ग्रामवासियों को दिखाई दी. उन्होंने लाश को किनारे लाया. एक पुत्री की खोज की जा रही है. अमरावती जिले का एक परिवार दुर्गवाडा में मुखोजी महाराज मंदिर में 21 सितंबर को आया था.

दिन भर पानी शुरु रहने से गांव वापिस लौटना असंभव था. विमल अंभोरे निवासी रेवसा (वलगांव), सारिका मोहोड़, प्रदीप मोहोड़, बेबी मोहोड़ सभी निवासी जामठी ने मंदिर में ही रात के समय मुकाम किया. जिसमें विमल अंभोरे (60) और सारिका मोहोड़ (34) दोनों मां-बेटी सुबह 6 बजे नदी किनारे प्रात: विधि के लिए गयी तब पूर्णा नदी में अचानक आयी बाढ़ में दोनों बह गयी.

लाखपुरी निवासी कुछ लोग बाढ़ देखने गए तथा कुछ लोग जलतरण कर रहे थे, उन्हें 60 वर्षीय महिला की लाश दिखाई दी. सूचना मिलते ही पुलिस पाटिल डिगांबर नाचने ने ग्रामीण पुलिस को जानकारी दी. शीघ्र ही हेड कांस्टेबल सुभाष उघडे, सहायक पुलिस निरीक्षक सुनील नवलाखे, हेड कांस्टेबल शिवानंद मोहोड़ आदि घटना स्थल पर पहुंचे. जांच के दौरान यह स्पष्ट हुआ कि यह महिला दुर्गवाडा से बहकर यहां आयी है. मृतक की शिनाख्त विमल अंभोरे के नाम की हुई. सारिका मोहोड नामक महिला की खोज की जा रही है.