Coronavirus
File Photo : PTI

    • शहर तथा जिले में कोरोना का रिकवरी रेट बढ़ा

    अकोला. शहर तथा जिले में अब धीरे धीरे कोरोना वायरस की दहशत कम होती जा रही है. पिछले काफी लंबे समय तक शहर तथा जिला पूरी तरह से बंद था. सिर्फ जीवनावश्यक वस्तुओं की दूकानें शुरू थी. इसके कारण कोरोना संक्रमण के तेज बढ़ते हुए प्रसार को रोकने में काफी मदद मिली है. 

    दूसरी लहर से आतंकित थे लोग

    कोरोना वायरस की दूसरी लहर के कारण लोग काफी आतंकित हो गए थे. जनवरी 2021 से कोरोना संक्रमित रोगियों की दिन प्रतिदिन वृध्दि होती जा रही थी. मार्च से लेकर मई तक करीब 37 हजार से अधिक कोरोना वायरस के रोगी यहां पाए गए. शायद इसी कारण से राज्य के 18 जिले जो की रेड जोन में डाले गए थे.

    उसमें अकोला का भी समावेश किया गया था. अब धीरे धीरे कोरोना वायरस के रोगी कम होते गए. और अब अकोला जिले का कोरोना वायरस के रोगियों का पाजिटिविटी रेट 8.96 प्रतिशत पर आ गया है. जिले में अब तक 50 हजार से अधिक लोग कोरोना संक्रमण से मुक्त हो चुके हैं. 

    अब सभी जगह बेड उपलब्ध

    पिछले 2 से 3 माह में यह स्थिति थी कि जीएमसी के साथ साथ किसी भी निजी कोविड हास्पिटल में रोगियों के लिए बेड उपलब्ध नहीं थे. यदि कोरोना के कारण किसी रोगियों की हालत गंभीर हो जाती थी तो उसे आईसीयू में बेड उपलब्ध नहीं हो पाता था. फिलहाल स्थिति काफी सुधर गई है.

    अब जीएमसी के साथ साथ अनेक निजी अस्पतालों में कोविड के रोगियों के लिए बेड उपलब्ध हैं. अब कोरोना वायरस के रोगियों को उपचार के लिए इधर उधर भटकना नही पड़ रहा है. इसी तरह अब बिना कारण बाहर घूमनेवाले लोगों की संख्या में भी कमी आई है. 

    अभी भी नियमों का पालन जरूरी

    कोरोना वायरस की तीसरी संभावित लहर को ध्यान में रखते हुए सभी की काम है कि सरकार द्वारा दी गई सूचनाओं और नियमों का पूरी तरह से पालन करें. फिलहाल दोपहर 2 बजे तक जीवनावश्यक वस्तुओं के साथ साथ सभी तरह के प्रतिष्ठानों को खोलने की छूट दी गई है. उस अनुसार अब लोग दोपहर 2 बजे तक बाहर निकल रहे हैं. लोगों का भी काम है कि अब आवश्यक जरूरत पड़ने पर ही बाहर निकलें.

    बाहर निकलते समय मास्क लगाएं, सोशल डिस्टेंसिंग का पूरी तरह से पालन करें, साबुन से रगड़कर हाथ धोएं. एक बात का पूरी तरह से ध्यान रखें की खतरा अभी पूरी तरह से टला नहीं हैं. इसलिए कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सरकार द्वारा दी जा रही सभी सूचनाओं का सख्ती से पालन करें. तभी हम कोरोना वायरस की संभावित तीसरी लहर का सामना कर सकेंगे.