गर्भ परीक्षण, अवैध गर्भपात पर अंकुश- 2 वर्षों में 5 ‘स्टिंग ऑपरेशन्स’!

अकोला. राज्य में लड़कियों का घटता प्रमाण यह चिंता का विषय बना हुआ है. जिसके लिए अवैध गर्भ परीक्षण को जिम्मेदार माना गया है. इसपर रोक लगाने के लिए यानि महिला भ्रूण हत्या रोकने के लिए जिला शल्य चिकित्सक कार्यालय की ओर से प्रति तीन माह में जिले के सोनोग्राफी सेंटरों की जांच की जानी चाहिए. पिछले दो वर्षों के दौरान, इस कार्यालय में काम करने वाली टीम ने 5 स्थानों पर स्टिंग ऑपरेशन कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की है.

इस बीच, टीम को दो केंद्रों से शिकायत मिली है, पुलिस की मदद से जल्द ही कार्रवाई की जाने की जानकारी मिली है. गर्भ परीक्षण एक अपराध है और इस संदर्भ में पथक द्वारा जनता के बीच जागरूकता भी बढ़ा रही है. जिले में सोनोग्राफी मशीन की मदद से गर्भ परीक्षण किए जाने की प्रकरण इसके पहले भी उजागर हुए हैं. उपरोक्त तकनीक का दुरुपयोग न हो तथा पीसीपीएनडीटी कानून पर अमल सही तरीके से करने के उद्देश्य से संबंधित अधिकारी बारीकी से ध्यान दे रहे हैं.

सरकार की खबरी पुरस्कार योजना के तहत जिला सर्जन कार्यालय द्वारा वर्ष 2019 में 1 लाख रुपये का पुरस्कार दिया गया है. इस संदर्भ में फिलहाल दो शिकायतें प्राप्त हुई है, पुलिस विभाग द्वारा जल्द ही शिकायत पर कार्रवाई करने की  जानकारी विश्वसनीय सूत्रों ने दी है. 

जिले के सोनोग्राफी केंद्र

जिला शल्य चिकित्सक के अंतर्गत 26 सोनोग्राफी केंद्र तथा 16 गर्भ परीक्षण केंद्र है.  मनपा स्वास्थ्य विभाग के अंतर्गत 102 सोनोग्राफी केंद्र और 75 गर्भपात केंद्र हैं. पथक द्वारा तीन माह के अंतराल में इन केंद्रों की जांच की जाती है. इसी तरह स्टिंग ऑपरेशन के माध्यम से संदिग्ध सोनोग्राफी केंद्र के खिलाफ और अवैध गर्भपात प्रकरण में कार्रवाई की जाती है. पथक2019-20 में 5 स्थानों पर स्टिंग ऑपरेशन किया गया है तथा तीन केंद्र संचालकों के खिलाफ पुलिस में शिकायत दाखल की गयी है. 

9 स्थानों सफल स्टिंग ऑपरेशन

जिला शल्य चिकित्सक कार्यालय और मनपा की संयुक्त टीम ने अब तक 9 स्थानों पर फर्जी डॉक्टरों और अवैध गर्भपात करने वालों के खिलाफ सफल स्टिंग ऑपरेशन किए हैं और आरोपियों के खिलाफ मामले भी दर्ज किए गए हैं. अकोला जिले को गर्भ परीक्षण और अवैध गर्भपात प्रकरण के संदर्भ में उल्लेखनीय कार्यों के लिए सन 2018 में जेआरडी टाटा मेमोरियल पुरस्कार से सम्मानित किया गया है. 

सही सूचना देने पर 1 लाख रु. का पुरस्कार:चौहान

स्थानीय जिला शल्य चिकित्सक डा.राजकुमार चौहान ने बताया कि यदि यह सही पाया जाता है कि जिले में या कहीं और सरकार द्वारा अधिकृत केंद्रों में अवैध गर्भपात या गर्भ परीक्षण किया जा रहा है, यदि कोई फर्जी डॉक्टर ऐसा करता पाया जाता है, तो कृपया टोल फ्री नंबर 18002334475 पर कॉल करें. आपका नाम गोपनीय रखा जाएगा और यदि आपकी जानकारी सही निकली तो आपको 1 लाख रुपए का पुरस्कार दिया जाएगा.