ल

अकोला. शहर में सप्ताह में एक दिन रविवार को लॉकडाउन शुरू किया गया है. रविवार छोड़कर सुबह 9 बजे से शाम 7 बजे तक सभी प्रतिष्ठान शुरू रहते हैं. रविवार को लॉकडाउन के कारण सभी प्रतिष्ठान पूरी तरह से बंद रहे. सुबह और शाम सिर्फ अत्यावश्यक सेवा के तहत 2 घंटों के लिए दूध की बिक्री शुरू रही. पेट्रोल पम्प भी पूरी तरह से बंद रहे. सिर्फ चार पेट्रोल पम्प जो कि सरकारी तथा अत्यावश्यक सेवाओं के लिए खुले रखे गए थे. वे भी सुबह सिर्फ 9 से दोपहर 12 बजे तक खुले रहे. मेडिकल स्टोर्स खुले थे लेकिन अनेक स्थानों में मेडिकल स्टोर्स भी दोपहर बाद बंद दिखाई दिए.  सभी सड़कें सूनी पड़ी थी. बहुत कम प्रमाण में लोग दूध या अत्यावश्यक कामों हेतु बाहर निकले थे.

नहीं आई सब्जियों की गाड़ियां
विशेष बात आज सब्जियों की गाड़ियां भी एक भी नहीं दिखाई दी. न ही फल की गाड़िया और दूकानें खुली दिखी. सब्जियां और फल भी लोगों ने एक दिन पूर्व ही शनिवार को खरीद लिए थे. जिला प्रशासन द्वारा अगस्त 2020 माह के सभी रविवारों को संपूर्ण लॉकडाउन रहेगा, यह घोषणा जिलाधिकारी द्वारा की गई है. 

लगातार रहता है पुलिस बंदोबस्त

पुलिस का तगड़ा बंदोबस्त
 जब से जिला पुलिस अधीक्षक के रूप में जी.श्रीधर ने कार्यभार संभाला है तब से सभी संवेदनशील स्थानों पर पुलिस बंदोबस्त लगातार देखा जा रहा है. समाजकंटकों पर सख्त कार्रवाई करने के आदेश सभी पुलिस अधिकारियों को दिए गए हैं. शहर के अनेक चौराहों पर पुलिस का इंतजाम देखा गया.  पुलिस द्वारा गश्त लगाती हुई गाड़ियां भी घूमती दिखाई दीं. जिला पुलिस अधीक्षक के मार्गदर्शन में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रशांत वाघुंर्डे, उप विभागीय पुलिस अधिकारी सचिन कदम इसी तरह सिटी कोतवाली के थानेदार उत्तमराव जाधव, एलसीबी के शैलेश सपकाल, खदान के किरण वानखड़े, रामदासपेठ के मुकुंद ठाकरे, पुराना शहर के प्रकाश पवार, अकोट फैल के महेंद्र कदम, सिविल लाईन के बी.के. मडावी, डाबकी रोड के विजय नाफडे, एमआईडीसी के रामेश्वर चव्हाण, यातायात शाखा के गजानन शेलके, जिला विशेष शाखा के सुनील सोलंके आदि ने पुलिस बंदोबस्त बनाए रखा.