Ignoring social distancing rules, city citizens are not serious

अकोला. कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए केंद्र व राज्य सरकार ने लॉकडाउन घोषित किया था. जिससे आर्थिक स्थिति डगमगा गई थी. इसको देखते हुए सरकार ने अब लॉकडाउन को अनलॉक करना शुरू किया है लेकिन प्रशासन ने इसके साथ ही नियमों की पाबंदी लगाई है लेकिन जनता इसका पालन नहीं कर रही है. अकोला मनपा क्षेत्र में कोरोना पाजिटिव मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. बाजारों में जीवनावश्यक वस्तुओं की दूकानों के साथ-साथ मेडिकल, फल, सब्जी आदि की दूकानें हाथगाड़ियों पर अपना माल बेच रही है.

अकोला महानगर के कई भाग ऐसे है जहां नागरिक बिना डरे बाजार, दूकानों में भीड़ कर रहे हैं. अधिकतर लोग मास्क लगाना तथा सतर्कता बरतना भूल गए हैं जिसके कारण कोरोना के फैलाव का खतरा बढ़ रहा है. कोरोना संक्रमण से बचने के लिए मुंह पर मास्क पहना जरूरी है लेकिन देखा जा रहा है कि अकोला में सब्जी, फल सहित लघु व्यवसायी अपनी सामग्री बेचते समय मास्क नहीं पहन रहे हैं. कई दूकानों में सोशल डिस्टेंसिंग नियमों का पालन भी नहीं किया जा रहा है. 

दूकानदार भी ग्राहक वापस न जाए इसे देखते हुए ग्राहकों से कुछ नहीं कहते. अकोला मनपा प्रशासन को चाहिए की वे अधिक से अधिक पथक गठित कर नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ प्रतिदिन कार्रवाई करें. सरकार द्वारा सतर्कता के लिए नियम घोषित किए गए हैं. जिस पर सभी को अमल करना जरूरी है.  

वाशिम के बाजार में उमड़ने लगी भीड़
कोरोना वायरस संकट में पिछले तीन माह से लाकडाउन शुरू किया गया है़ दरम्यान एक माह पूर्व इसमें कुछ छूट दी गई है़  छूट मिलते ही बाजार में लोगों की भीड़ उमड़ना शुरू हो गया है़  जिलाधिकारी के आदेशनुसार सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक अधिकतर दूकानें खोलने की अनुमति दी गई है़  इस दौरान लोग आवश्यक वस्तु खरीदी के निमित्त भीड़ करते नजर आ रहे हैं. अनेक स्थानों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो रहा है़.

जिससे संक्रमण बढ़ने की आशंका निर्माण हो रही है़  लॉकडाउन के कारण लघु व्यवसायी रास्ते पर आ गए है़ं  जिससे खरीददारों की एकसाथ भीड़ बढ़ने से लाकडाउन के पूर्व जो स्थिति थी, वहीं स्थिति अब नजर आ रही है़  दूकानों में 5 से अधिक व्यक्ति नहीं होने के आदेश जिलाधिकारी ने दिए है़  लेकिन शहर में अनेक दूकानों में 5 से अधिक व्यक्ति रहते है़ं  विशेषता में इन व्यक्तियों से फिजीकल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया जा रहा है़  प्रशासन कोरोना का खतरा टालने के लिए प्रयास कर रहा है. लेकिन नागरिक इसके लिए अपेक्षित प्रतिसाद नही दे रहे है़ 

बुलढाना में उड़ रही नियमों की धज्जियां 
 कोरोना वायरस पर नियंत्रण पाने हेतु भारत सरकार द्वारा अनेक उपाय योजनाओं पर अमल किया जा रहा है. शुरुआती समय में कोरोना संसर्ग पर नियंत्रण पाने के लिए भारत में शत प्रतिशत लॉकडाउन लगाया गया. पश्चात देश समेत राज्य की आर्थिक स्थिति को बरकरार रखने के लिए  उक्त लॉकडाउन को धीरे-धीरे शिथिल किया गया.

इसी के चलते वर्तमान की स्थिति में व्यवसायिक दूकानों को जिलाधिकारी द्वारा जारी आदेश के अनुसार सुबह 9 से शाम 5 बजे तक शुरू रखने की अनुमति दी गई. जिले में जिलाधिकारी कार्यालय द्वारा व्यवसायिक दूकान उक्त समय में खुल रहे हैं किंतु अनेक दूकानों के बाहर सोशल डिस्टेंसिंग  का उल्लंघन किया जा रहा है. साथ ही प्रशासन द्वारा मास्क जरूरी करने के पश्चात भी नागरिक इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं. जिसके कारण आने वाले समय में कोरोना संसर्ग फैलने की संभावना निर्माण हो सकती है.