Village
File photo

  • जिलाधिकारी पापलकर द्वारा खापरवाड़ा में उद्घाटन

अकोला. केंद्र सरकार की स्वामित्व योजना के अंतर्गत गांव की सभी संपत्तियों का सर्वेक्षण नवीनतम तकनीक पर आधारित ड्रोन काउंटिंग प्रोजेक्ट द्वारा किया जाएगा और गांव में प्रत्येक संपत्ति का एक नक्शा तैयार किया जाएगा. सर्वे कार्यक्रम का उद्घाटन जिलाधिकारी जीतेंद्र पापलकर ने मुर्तिजापुर तहसील के के खापरवाड़ा में किया. इस अवसर पर मुर्तिजापुर के उप विभागीय अधिकारी अभयसिंग मोहिते, जिला अधीक्षक भूमि अभिलेख विलास शिरोलकर, जिला अग्रणी बैंक के व्यवस्थापक अलोक तारेणिया, उप अधीक्षक नितिन अटाले, सवे ऑफ  इंडिया के ऑफीसर सवेअर अनिल कुमार,  चेन चौधरी, बीडीओ पायस प्रमुखता से उपस्थित थे.

ड्रोन सर्वेक्षण द्वारा अकोला जिले के खपरवाड़ा में संपत्ति सर्वेक्षण किया गया. जिलाधिकारी जीतेंद्र पापलकर ने बताया कि ड्रोन द्वारा गांव की सभी संपत्तियों के सर्वेक्षण के नक्शे 10 मिनट में पूरे किए गए. अगले चार महीनों में ग्रामीण विकास विभाग और भूमि रिकॉर्ड विभाग की मदद से 810 गांवों का सर्वेक्षण किया जाएगा. यह गांव में नालों, खेत सड़कों, पक्की सड़कों, अतिक्रमण और संपत्ति को सुनिश्चित करेगा. जिलाधिकारी जीतेंद्र पापलकर ने बताया कि गावठाण संपत्ति के रिकॉर्ड तैयार किए जाएंगे और सार्वजनिक संपत्ति की रक्षा की जाएगी.

ड्रोन काउंटिंग प्रोजेक्ट की विशेषताएं और लाभ

गांव में सभी संपत्तियों के नवीनतम प्रौद्योगिकी सर्वेक्षण के साथ, गांव के हर घर का एक नक्शा तैयार किया जाएगा, संपत्ति धारकों को अपनी संपत्ति की सीमाओं और सटीक क्षेत्र का पता चलेगा. गांव के संपत्ति धारकों को उनके संपत्ति के अधिकार यानी संपत्ति पत्र का प्रमाण मिलेगा. इसका मतलब यह है कि गांव में मकान और ज़मीन के स्वामित्व के प्रमाण के आधार पर ऋण उपलब्ध कराया जा सकता है.

संपत्ति के स्वामित्व के रिकॉर्ड और नक्शे वित्तीय ऋण में वृद्धि करेंगे, भूमि के स्वामित्व और सीमा विवादों के निपटारे के लिए गांव की जमीन, कानूनी रूप से मानक माना जाता है, यह विवादों को समाप्त कर देगा, गांव में जमीन की बिक्री और खरीद में धोखाधड़ी को रोक देगा, गांव में सार्वजनिक भूमि, खाई, सड़क, नालों के नक्शे और रिकॉर्ड बनाएगा और सार्वजनिक संपत्ति की रक्षा करेगा.