फर्जी बीज व खाद की बिक्री पर लग रही रोक‍! उड़न दस्ते ने लिए बीज व खाद के सैम्पल

    • प्रयोगशाला में भेजे गए सैम्पल 

    अकोला. पिछले साल सोयाबीन के फर्जी बीज किसानों की चपेट में आने की घटना को देखते हुए इस वर्ष जिले में खरीफ मौसम में खाद और बीजों की बिक्री और आपूर्ति की निगरानी के लिए टीमें बनाई गई हैं. जिला परिषद की टीम ने अब तक बीज के 58 और खाद के 21 नमूने लेकर जांच के लिए प्रयोगशाला भेज दिए हैं. यह सैम्पल कृषि बीज और खाद विक्रेताओं से एकत्र किए गए हैं और बीज का परीक्षण नागपुर में किया जाएगा और खाद के सैम्पलों का परीक्षण औरंगाबाद की एक प्रयोगशाला में किया जाएगा.

    जिले में पिछले साल की तरह फर्जी बीज की बिक्री की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है. यह पहले ही सामने आ चुका है कि किसानों को घटिया किस्म का बीज बेचा जा रहा है. पिछले साल फर्जी सोयाबीन के बीज से किसानों को भारी नुकसान हुआ था. इसी तरह कपास पर बोंड इल्ली का प्रकोप होने से राज्य में कपास उत्पादन में 42 प्रतिशत की गिरावट आई थी. पिछले साल जिले के विभिन्न गोदामों से लिए गए कपास के सात बीज फर्जी पाए गए थे.

    इस बीच कृषि विभाग ने यह सुनिश्चित करने के लिए बड़ी टीमें बनाई हैं कि किसानों को गुणवत्तापूर्ण बीज मिले और उनसे धोखाधड़ी न हो. टीम ने बीज और खाद के नमूने भी एकत्र किए हैं. इस जिला स्तरीय दल में चार अधिकारी शामिल हैं. जिसमें दल के प्रमुख जिला कृषि विकास अधिकारी डा.मुरली इंगले, सदस्य सचिव के रूप में मुहिम अधिकारी मिलिंद जंजाल और सदस्य के रूप में जिला अंक नियंत्रण निरीक्षक नितिन लोखंडे व बाट और माप निरीक्षक शामिल हैं. इसी तरह से तहसील स्तर पर भी दस्ते तैयार किए गए हैं. 

    79 बीजों के सैम्पल लेने का लक्ष्य

    जिला परिषद के कृषि विभाग अंतर्गत बीजों के कुल 58 सैम्पल संकलित किए गए है. जिसमें बार्शीटाकली तहसील के बीजों के 6 सैम्पल, मुर्तिजापुर के 7, तेल्हारा के 5, बालापुर के 9, पातुर के 8 तथा अकोला तहसील के 5 सैम्पल शामिल है. इस तरह 18 सैम्पल यह यंत्रणाओं की ओर से एकत्र किए गए है. बीजों के सैम्पल लेने का लक्ष्य 79 रखा गया है.

    यह जानकारी उड़न दस्ते के प्रमुख मुरली इंगले ने दी है. जिला परिषद के कृषि विभाग के तहत विभिन्न तहसीलों से खाद के कुल 21 सैम्पल एकत्र किए गए हैं. जिसमें बार्शीटाकली तहसील के 3, तेल्हारा के 4, बालापुर के 3, पातुर के 4 और अकोला तहसील के 3 सैम्पल लिए गए हैं. इसी तरह से यंत्रणाओं ने खाद के 4 सैम्पल लिए हैं.