water supply

    • महावितरण का 12 लाख रू. बकाया

    अकोट. गट ग्राम पंचायत सावरा रंभापुर जलापूर्ति के 12 लाख रुपए बिजली बिल बकाया रहने के कारण महावितरण ने ग्राम सावरा के 3 तथा ग्राम रंभापुर की 1 जलापूर्ति केंद्र की बिजली कनेक्शन खंडित की गई है. बिजली कनेक्शन खंडित होने के कारण सावरा और रंभापुर वासियों को जलापूर्ति नहीं हुई है.

    महावितरण ने एक बार फिर से बिजली आपूर्ति बाधित कर दी है. समझा जा रहा है कि लाकडाउन के चलते ग्रामीणों से 20 लाख रुपए टैक्स नहीं मिलने से बिजली आपूर्ति बाधित हुई है. लेकिन नियमित जल टैक्स भरनेवाले सामान्य नागरिक को इसका बड़ा नुकसान हुआ है. यह कदम ऐसे समय में उठाया गया है जब बुआई का मौसम जोरों पर है. जिससे महावितरण की नीति के खिलाफ आक्रोश फैल रहा है. 28 जून से जिले में फिर से सख्त पाबंदियां लगाई गई हैं.

    वहीं बारिश नहीं होने से बुआई में देरी हुई है. बारिश नहीं होने से मजदूरी का काम फिलहाल नहीं चल रहा है और मजदूरी नहीं मिलने से ग्रामीण घरों में बैठे हैं. ऐसे समय पर सावरा ग्राम पंचायत की जलापूर्ति की बिजली कनेक्शन खंडित होने से गांव की जलापूर्ति बाधित हो गई है. ग्राम पंचायत कह रही है कि हम अगले कुछ दिनों में अर्थव्यवस्था के सुचारू होने के बाद बिल का भुगतान कर देंगे, लेकिन अनुरोध करने पर भी पानी की आपूर्ति काट दी गई है.

    इससे पहले कोरोना काल में मई में भी जलापूर्ति काट दी गई थी, लेकिन फिर ग्राम पंचायत ने अपने फंड से भुगतान कर जलापूर्ति सूचारु की थी. वरिष्ठ अधिकारियों ने इस मामले में ध्यान देकर सीजन के समय बिजली आपूर्ति को बिना किसी रुकावट के कुछ समय के लिए जारी रखा जाए. ऐसी मांग नागरिक कर रहे हैं. 

    बारिश नहीं होने से किसान और मजदूर वर्ग घर पर बैठे हैं. कोई भी टैक्स देने को तैयार नहीं है क्योंकि उनके पास पैसा नहीं है. खेती के काम शुरू होने के बाद ही अर्थचक्र सुचारु होगा. तब तक महावितरण ने सख्त रुख अपनाए बिना कुछ राहत देने की कोशिश करनी चाहिए. – स्वाती मोरे, सरपंच, सावरा.