रेलवे माल ढुलाई में 1.3 प्रश वृद्धि, नवंबर में 5.65 दशलक्ष टन ढुलाई

अमरावती. मध्य रेलवे ने नवंबर 2020 में 5.65 मिलियन टन माल ढुलाई की है. नवंबर 2019 में हुई 5.58 मिलियन टन की तुलना में यह 1.3 प्रतिशत अधिक है. रेलवे प्रशासन से प्राप्त जानकारी के अनुसार नागपुर डिवीजन में डोलोमाइट, कपास की भूसी, कपास के बीज, कडबा, चावल और फ्लाई ऐश, भुसावल डिवीजन में भूसी, पुणे डिवीजन में एग्रो आधारीत पोटाश आदि नए माल की ढुलाई रेलवे से कराने विभाग के व्यावसायिक विकास इकाइयों ने जोर शोर से मार्केटिंग की है. 

बांग्लादेश को वाहन निर्यात 

इस साल मध्य रेलवे से ऑटोमोबाइल रेक की लोडिंग 155 तक पहुंच गई है. विभिन्न टर्मिनलों से बांग्लादेश के लिए वाहनों के निर्यात रेलवे से किया गया. अक्टूबर और नवंबर में लोड किए गए 30 से अधिक रेक की लोडिंग की गई. अप्रैल से नवंबर 2020 के दौरान, 182 रेक प्याज लोड किया गया. जो पिछले वर्ष किए लोडिंग से 25 रेक अधिक है. इन 182 रेक में 79 रेक बांग्लादेश भेजे गए है.नवंबर 2020 में, मुंबई डिवीजन ने प्रति दिन अधिकतम 1,252 वैगन लोड किया है. भुसावल डिवीजन ने अक्टूबर 2020 में सबसे अधिक 21 एनएमजी वाहन दर्ज किए गए तथा नवंबर में भी 21 रैक रही. 

किसान रेल को बेहतर रिस्पॉंस

किसान रेल अभी भी किसानों के बीच लोकप्रिय हो रही है. किसान रेलवे की 41 यात्राओं में अब तक 13513 टन नाशपाती और अन्य वस्तूओं की यातायात हुई है. पहली बार, जेउर स्टेशन से 23 टन केले लोड किए गए. कोरोना काल में अब तक 649 पार्सल ट्रेनों का संचालन किया गया. भिवंडी, पंढरपुर, सांगोला, बेलवंडी, कोपरगांव, मोडलिंब, जेउर, लासलगांव, वरुड ऑरेंज सिटी, काटोल, पांढुर्ना, नरखेड और कलमेश्वर स्टेशन भी पार्सल यातायात को आकर्षित करने की जानकारी रेल प्रशासन ने दी है.