Smuggling of sand is happening at night from the drainage of Jharan forest
File Photo

अमरावती. पर्यावरण कारणों से जिले के सभी रेती घाटों की नीलामी को स्थगित कर दिए है. किसी भी रेती घाट की नीलामी नहीं हुई है, फिर भी अवैध रेत उत्खनन कर रेती चोरी का सिलसिला जारी होने से अमरावती तहसील कार्यालय की ओर से मुहिम चलाकर अब तक 25 वाहनों पर कार्रवाई कर 13 लाख 20 हजार का जुर्माना वसूला है, जबकि बगैर रायल्टी रेत तस्करी करने वाले 6 वाहनों के खिलाफ अलग-अलग थाने में एफआइआर दर्ज किया है

25 वाहनों पर कार्रवाई
जिले में सरकारी व निजी निर्माण कार्यों के लिए कन्हान रेती का अधिक इस्तेमाल हो रहा है, वहीं वर्धा रेती घाट नीलाम ना होने से पास पडोस के नदी नालों से बडे पैमाने में रेती तस्करी होने से अमरावती तहसीलदार संतोष काकडे के नेतृत्व में राजस्व विभाग ने रेत तस्करों के खिलाफ अभियान छेड दिया है. अवैध रुप से रेत तस्करी करने वालों के साथ ही जमाखोरों पर भी राजस्व विभाग की नजर है. इस क्रम में राजस्व विभाग की ओर से कुल 25 वाहनों पर कार्रवाई कर 13 लाख 20 हजार का राजस्व वसूला गया है, जिसमें 4 प्रकरण एसडीओ कार्यालय में प्रलंबित है. 

जमाखोरों पर पैनी नजर
इसी तरह ट्रक व ट्रैक्टर ट्राली से रेत चोरी करने के प्रकरण में 6 वाहनों के खिलाफ एफआइआर दर्ज किया है. जिसमें वलगांव में 2 तथा बडनेरा व नागपुरी गेट में 1-1 प्रकरण दर्ज है. जमाखोरों पर भी राजस्व विभाग लगातार कार्रवाई कर रहा है. इस क्रम में वडाली में 2 जगह से 8 ब्रास रेती जब्त की है, वलगांव व भातकुली रोड पर रेती के अवैध ठिया लगाने वालों को नोटिस जारी कर जल्द ही कार्रवाई होगी.

एमपी से बगैर रायल्टी रेत तस्करी
जिले के रेती घाट नीलाम ना होने से अधिकांश जगह मध्यप्रदेश से कन्हान रेती लगाई जा रही है, इस रेत का उपयोग बडे पैमाने में सरकारी व निजी कामों में किया जा रहा है.जिससे कन्हान रेती की डीमाड बढी है. रोजाना रात के समय एमपी, भंडारा से विशेष नंबरों के ट्रक बगैर रायल्टी के शहर व जिले में कन्हान रेती ला रहे है, ओव्हर लोड रेत से जहां दुर्घटनाएं हो रही है, वहीं सडकों के नुकसान के साथ करोड़ों का राजस्व डूबाया जा रहा है. राजस्व विभाग कब इस ओर कार्रवाई का कदम उठाएगा, यह प्रश्न नागरिक पूछ रहे है