सागौन के 15 पेड काटकर ले भागे, फारेस्ट अफसरों की नाक के नीचे तस्करी

धारणी. प्राकृतिक संपदा संपन्न मेलघाट वन क्षेत्र में सागौन तस्करों का आतंक अभी भी कम नहीं हुआ है. वनाधिकारियों की नाक के नीचे तस्कर लाखों का सागौन चोरी कर ले जाने की घटनाएं लगातार उजागर हो रही है. इसी श्रृंखला के तहत सोमवार को सुसर्दा बीट के कोल्डाढाना के जंगल से सागौन तस्करों ने 15 से अधिक सागौन पेड़ों की कटाई कर उन्हें 10 पहिया ट्रक में डालकर वहां से फरार हो गए. इस चोरी के सागौन की कीमत 25 लाख रुपये बताई जाती है.  

इलेक्ट्रानिक मशीन जनरेटर पर चलाई

तडके इन सागौन चोरों ने 40 से 60 फीट ऊंचे सागौन के पेड़ों को इलेक्ट्रानिक पावर आरा मशीन, जो जनरेटर पर चलती है. उसका उपयोग कर काट लिये. इतना ही नहीं बल्कि आनन-फानन में एक-एक कर सभी पेड़ों को पहले से वहां खडे ट्रक में लोड कर दिया. थुकईथड अथवा खिडक्या मार्ग से मध्य प्रदेश की ओर भाग गए. खास बात है कि इस मार्ग पर कोई फारेस्ट नाका नहीं है. सागौन चोरी हो जाने के बाद वनाधिकारी वहां पहुंचे. पंचनामा कर नुकसान का अंदाज लगाकर कागजी खानापूर्ति की गई. सहायक वन संरक्षक पराड सहित अन्य कर्मचारी यहां उपस्थित थे. आरोप लगाया जा रहा है कि पिछले 20 वर्षों से सुनियोजित तरीके से तस्कर सागौन चुराते है. पिछले 10 दिन पहले भी इसी तरह 10 से 12 सागौन पेड काटकर चोरी कर लिये जाने की चर्चा है.