CSTPS contract workers strike for bonus

    • मिलेगा 16.46 लाख का मुआवजा

    धामणगांव रेलवे: श्रीजी इन्फ्रास्ट्रक्चर कंपनी के विरोध में पिछले 18 दिनों से मांडवगणे किसान परिवार ने अनशन आंदोलन शुरू किया था. प्रहार की मध्यस्ती से मांडवगणे परिवार ने गुरुवार को अपना आंदोलन समाप्त किया. इस संदर्भ में बच्चू कडू ने कृषि, राजस्व, निर्माण, पर्यावरण आदि विभागों के अधिकारियों की तत्काल बैठक आयोजित कर जांच समिति गठीत की थी. इस समिति की रिपोर्ट के अनुसार मांडवगणे परिवार को 16 लाख 36 हजार 447 रुपए नुकसान भरपाई देना तय हुआ है.

    अवैध ब्लास्टिंग से फसलों का नुकसान

    श्रीजी इन्फ्रास्ट्रक्चर कंपनी द्वारा की गई अवैध ब्लास्टिंग के कारण मांडवगणे के खेत की फसलों का काफी नुकसान हुआ. नुकसान भरपाई की मांग को लेकर रुपराव मांडवगने ने 15 मार्च से बेमियादी अनशन आंदोलन शुरू किया. इस बीच, उनकी हालत गंभीर हो गई और उन्हें इलाज के लिए भर्ती कराया गया. लेकिन इसके बाद, उनके परिवार के सभी सदस्यों ने अनशन शुरू कर दिया. 18 दिनों से चल रहे इस अनशन का फालोअप प्रहार जिला प्रमुख प्रवीण हेन्डवे ने लिया.

    राज्य मंत्री बच्चू कडू ने भी इस संबंध में कृषि, राजस्व, निर्माण, पर्यावरण आदि विभागों के अधिकारियों की मौजूदगी में एक बैठक बुलाई थी. साथ ही, सभी विभागों की एक सरकारी समिति का गठन किया गया. इस समिति द्वारा दी गई रिपोर्ट में तय की गई मुआवजा राशि किसान को देने के आदेश चांदूर रेलवे के उपविभागीय अधिकारी इब्राहिम चौधरी को दिए. जिसके बाद यह अनशन आंदोलन समाप्त हुआ.

    प्रहार किसान संगठन के महराष्ट्र प्रदेशाध्यक्ष मंगेश देशमुख, प्रहार जिलाध्यक्ष प्रवीण हेंडवे ने शरबत पिलाकर अनशन छुडाया. इस समय प्रहार के शेख दिलावर, प्रदीप काले, प्रफुल डाफ, प्रशांत हुडे, ऋग्वेद काले, अक्षय धोपटे, सुमित वानखडे व कार्यकर्ता उपस्थित थे.