8 माह में 204 परिवार को टुटने से बचाया, सिर्फ 15 प्रकरण में रिपोर्ट

अमरावती. 24 घंटे जनता के जानोमाल की सुरक्षा के साथ ही 2 परिवारों के बीच समन्वय निर्माण कर उन्हें टूटने से बचाने में भी सिटी पुलिस ने कामीयाब हुई है. इस वर्ष 8 माह के भीतर शहर पुलिस की महिला सेल विभाग ने 204 परिवार को टुटने से बचा लिया, जबकि 15 प्रकरणों में समझौता ना होने से संबंधित थानातर्गत प्रकरण दर्ज किए है. परिवारों के बीच समझौता करवाकर उन्हें टुटने से बचाने में शहर महिला सेल शतप्रतिशत सफल रही है

समझाईश से मिटाए विवाद
पारिवारिक कारणों से पति-पत्नी के बीच मनमुटाव होने से लड़ाई झगड़े होते है, यह विवाद बढ जाने से थाने तक पहुंचते है, थाना पुलिस इन प्रकरणों में कार्रवाई करने से पहले परिवार के बीच आपसी सुलह कराने के उद्देश से महिला सेल के पास भेजा जाता है. जहां महिला सेल के अधिकारी व कर्मचारी पति पत्नी के बीच समन्वय निर्माण करने के लिए 2 से 3 बार उनके बीच मतभेद मिटाने के लिए बैठक करते है. जहां उचित मार्गदर्शन मिलने पर समझौता होकर विवाद मिट जाता है. 

पिछले वर्ष भी बढा था समझौते का ग्राफ
ऐसे ही प्रकरण में इस वर्ष 1 जनवरी से 31 अगस्त तक महिला सेल में कुल 366 मामले आये. जिसमें से 220 प्रकरण पर सुनवाई हुई. जिनमें 205 प्रकरणों में आपसी समझौता होकर परिवार टुटने से बच गए, जबकि 15 प्रकरण में एफआइआर दर्ज किया है जबकि पिछले वर्ष 2019 में महिला सेल के पास कुल 642 प्रकरण आये थे, जिसमें 585 प्रकरणों में आपसी सुलह से समझौता हुआ, जबकि 57 प्रकरणों में एफआइआर दर्ज किया है. पहली महिला सीपी के रुप में चार्ज संभालने से सीपी डा.आरतीसिंह से महिला की अपेक्षा बढ गई है, उन्हें न्याय दिलाने के लिए हर संभव प्रयास करने का आग्रह किया है.