2,500 salons, 600 parlors open in district

अमरावती. लंबे लॉकडाउन के बाद रविवार से नियम और शर्तों के साथ राज्यभर में सलून व ब्यूटी पार्लर शुरू किए गए. इस क्रम में जिले के 2,500 सलून शुरू हुए, जिसमें शहर में तकरीबन 1,100 सलून का समावेश है. उसी प्रकार शहर के 600 से अधिक ब्यूटी पार्लर भी खुले. रविवार होने के बावजूद अधिकांश व्यवसाईयों ने अपनी दूकाने खोली. दूकानों की सफाई व सैनेटाइज्ड कर व्यवसाय आरंभ किया गया. रविवार की सुबह से ही सलून व पार्लरों में ग्राहकों की चहल-पहल नजर आई. 

कटिंग के लिए 100 रु. रेट
सुरक्षा के दृष्टि से लगाए गए नियम व शर्तें की वजह से कटिंग के रेट 100 रुपये तक बढ़ाए गए. जबकि एसी में कटिंग करने वालों से 150 रुपए रेट वसूला जा रहा है. सलून संचालकों द्वारा प्रत्येक ग्राहक का आधार कार्ड मांगा जा रहा है. जिससे उसका नाम पता व मोबाइल नंबर लिखा जा रहा है. उसके बाद हैंड वॉश, टेंपरेचर गन, मास्क, हैंड क्लोज तथा पीपीई किट जैसे चीजें ग्राहकों के लिए इस्तेमाल की गई है.

वहीं अलग टावेल, नैपकिन का भी इस्तेमाल किया गया. जिससे सलून से संचालक आमतौर पर 50 से 70 रुपए रेट की बजाए कटिंग के लिए 100 रेट लिए, वहीं एसी में हेयर कटिंग करने वाले ग्राहकों से 150 रुपए चार्ज लिया जा रहा है. हेयर डाई, वैक्सिंग, थ्रेडिंग के भी अतिरक्ति चार्ज लिए जा रहे है.

80 फ़ीसदी दूकानें शुरू
शहर व जिले में 2500 सलून है, जिसमें से शहर में 1100 सलून हैं. रविवार को 80 प्रतिशत दूकानें शुरू हो चुकी हैं, जबकि अन्य दूकानें एक-दो दिन में शुरू हो जाएंगी. सुरक्षा की दृष्टि से सभी उपाय किए गए हैं. इस वजह से हेयर कटिंग के रेट बढ़ गए है. वहीं प्रत्येक ग्राहक से आधार कार्ड की जेरोक्स ली जा रही है. जिससे कंटेनमेंट जोन से आने वाले ग्राहक की पहचान हो पाएगी- अमित राठौड़, शहराध्यक्ष, महाराष्ट्र नाभिक युवा संगठन

नियमों के साथ व्यवसाय  
शहर में 600 से अधिक ब्युटी पार्लर है. 3 माह के बाद   रविवार को व्यवसाय पुन: शुरु हुआ. व्यवसाईयों ने मास्क, फिजिकल डिस्टेंसिंग, स्वच्छता जैसे नियमों का पालन करते हुए व्यवसाय शुरु किया. इसके लिए स्पार्कल व सजीली ग्रुप की ओर से महिला पार्लर संचालकों को अंर्तराष्ट्रीय स्तर का प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है. बंद के दौरान इस क्षेत्र को करोड़ों रुपयों का नुकसान हुआ. कई परिवारों पर आर्थिक संकट गहराया है.-रश्मी नावंदर, संस्थापक अध्यक्ष, स्पार्कल ग्रुप