APMC meeting canceled due to lack of quorum, 11 members refuse

    अमरावती. अमरावती कृषि उत्पन्न बाजार समिति में लाइसेंस धारक खरीदार निरंजन बोहरा ने अडतों के साथ 3 करोड़ रुपए से जालसाजी की है. रिद्धि ट्रेडर्स के नाम से एपीएमसी में उनकी शॉप है. सालासर एग्रो नागपुर के अधिकृत प्रतिनिधि के रूप में उन्होंने अडतों से माल की खरीदी किया, लेकिन करोड़ों रुपए का माल खरीदने के बावजूद अब अडतों को पैसे देने के लिए आनाकानी कर रहा हैं.

    इस संदर्भ में गाडगे नगर पुलिस स्टेशन में भी शिकायत दी गई. जल्द से जल्द अड़तों को राहत देने की मांग अमरावती चेंबर ऑफ कॉमर्स इंडस्ट्रीज के विनोद कलंत्री ने की है. इस संदर्भ में उन्होंने मंगलवार को पुलिस आयुक्त आरती सिंग को ज्ञापन सौंपा.

    सालासर का माल एपीएमसी में पड़ा

    विनोद कलंत्री ने सीपी को बताया कि सालासर एग्रो लाइसेंस पर खरीदी किए गए. सोयाबीन की बाजार पेठ विश्वास के अनुसार जावक सालासर उद्योग की जावक रजिस्टर के साथ मिलती जुलती है, क्या इस पर भी ध्यान देना जरूरी है. जानकारी के अनुसार 21 नवंबर 2020 को रिद्धि ट्रेडर्स की अंतिम गेट पास निकाली थी. जबकि 3 दिसंबर 20 तक सालासर उद्योग के नाम से अंतिम गेट पास निकाल कर वह माल एपीएमसी के मार्केट में खुले में रखा है. जिसका अर्थ यह है कि नवंबर से दिसंबर तक खरीदी किया गया खेत माल बाजार समिति के प्रांगण में ही रखा गया है.

    जिसकी जांच होना जरूरी है, निरंजन अभी भी फरार है. उसके बैंक खाते से दो बार 5-5 लाख निकाले गए, उसकी भी जांच होना जरूरी है. एपीएमसी खेतमाल की आवक होने से लेकर खेत माल बिक्री होने तक प्रत्येक जगह पर पंजीयन होता है. बावजूद इसके इस तरह धोखाधड़ी करने से यह कैसा क्या हुआ यह समझ नहीं आ रहा. इसीलिए पुलिस विभाग ने इस मामले की गंभीरता को समझते हुए अडतों को राहत देनी चाहिए ऐसी मांग की गई.