Masks and ventilation effective beyond social distance to prevent the spread of corona: research

    अमरावती: जिले में गतवर्ष कोविड संक्रमण की महामारी फैलने के साथ ही सरकारी एवं निजी जीवन बीमा व सामान्य बीमा कंपनियों द्वारा भारतीय बीमा नियामक आयोग के दिशा निर्देश पर लोगों को कोविड संक्रमित होने की स्थिति में आर्थिक सुरक्षा कवच देने हेतु बीमा पालिसियां शुरू की गई. जिसके तहत प्रमुख रूप से कोरोना रक्षक व कोरोना कवच नामक दो पालिसियां सरकारी सहित कुल 29 निजी बीमा कंपनियों द्वारा बेची गयी.

    एक अनुमान के अनुसार बीते 1 वर्ष के दौरान इन बीमा कंपनियों अमरावती जिले में करीब ढाई लाख लोगों को बीमा पालिसियां बेची हैं. जिसमें से लगभग 6 हजार से अधिक लोगों द्वारा कोविड संक्रमित होने के बाद बीमा पालीसी का लाभ पाने हेतु क्लेम किया गया. जिसमें से अब तक करीब 3 हजार लोगों को उनकी बीमा राशि का क्लेम अदा किया जा चुका है. वहीं अन्य क्लेम को लेकर संबंधित बीमा कंपनियों द्वारा जांच पड़ताल की जा रही है.

    देने पड़ते प्रमाणपत्र

    इस बीमा पालीसी में बीमा राशि का लाभ लेने हेतु बीमाधारक को आरटीपीसीआर रिपोर्ट, कम से कम 72 घंटे अस्पताल में भरती रहने का प्रमाणपत्र तथा आयपीडी केस पेपर अपनी बीमा कंपनी के पास पेश करना होता है. जिसके आधार पर उसके क्लेम को मंजूरी देकर पालीसी खत्म हो जाती है. जिले में करीब 2.50 लाख लोगों द्वारा कोविड बीमा पालिसियां खरीदी गई.

    जिसमें से अब तक लगभग 3 हजार लोगों के बीमा क्लेम मंजूर करते संबंधितों को बीमा राशि का लाभ दिया जा चुका है. वहीं शेष पालिसियों का क्लेम मंजूर करने से पहले उनकी आवश्यक पड़ताल की जा रही है. वहीं एक अनुमान के मुताबिक समूचे जिले में अलग-अलग कंपनियों के पास लगभग 6 हजार बीमा धारकों द्वारा बीमा राशि के लाभ हेतु क्लेम किया गया है.