18,000 children infected in Nashik, first infected on 28 March 2020
प्रतीकात्मक तस्वीर

    धारणी. यहां से 7 किलो मीटर अंतर पर बसे राणीतंबोली गांव में एक ही परिवार के चार बच्चों को एक जैसा रोग हो गया है. उपचार के दौरान एक एक बालिका की मौत हो गई. जिससे धारणी तहसील में दहशत देखी जा रही है.  

    बुखार, उलटी व दस्त से पीड़ित 

      प्राप्त जानकारी के अनुसार राणीतंबोली निवासी हीरालाल भिलावेकर के चार बच्चे बुखार, उलटी व दस्त लगने से बीमार पड़ गए. जिसमें गौरी हीरालाल भिलावेकर (14), जानवी (4), अनुष्का (2) व संजना भिलावेकर (8) का समावेश है. पिछले रविवार को इन सभी बच्चों को बुखार, उलटी व दस्त ने जकड़ लिया.  जिससे चारों को तुरंत धारणी उपजिला अस्पताल में दाखिल कराया गया. उपचार के दौरान चारों में से संजना की मंगलवार शाम 7 बजे मौत हो गई.

    बताया जाता है कि हीरालाल ने बच्ची की मौत के बाद अन्य तीन बच्चों को भी अस्पताल से घर लेकर चले गए. हालांकि इस समय अस्पताल के डाक्टरों ने तीन बच्चों का उपचार शुरू रखने आग्रह किया, लेकिन हीरालाल नहीं माने. यह खबर सुनते ही  विधायक राजकुमार पटेल के बेटे रोहित ने खुद एम्बुलेन्स से राणीतंबोली पहुंचकर इस परिवार को मदद की.  

    वायरल इंक्लापेडीस से मौत 

    राणीतंबोली गांव के एकही परिवार के चार बच्चों को बुखार, अलटी व दस्त के कारण रविवार को धारणी उपजिला अस्पताल भर्ती कराया गया. सभी को एंटीबायोटिक व सलाइन दी गई.  संजना नामक बच्ची की वायरल इंक्लापेडीस के कारण मौत होने की आशंका है. अभिभावकों ने शेष तीन बच्चों को घर ले गए. रोकने पर भी नहीं रूके. बच्चों की हालत स्थिर है. -डा. दयाराम जावरकर, बालरोग तज्ञ