Farmer, Wardha, farming

    अमरावती. संभाग में इस वर्ष के खरीफ सीजन की 60 फीसदी बुआई निपट चुकी है. इस वर्ष 32 लाख 28 हजार 581 हेक्टेयर में से 19 लाख 53 हजार 845 हेक्टेयर क्षेत्र पर बुआई हुई है. जिसमें सोयाबीन 9.39 लाख, कपास 6.87 लाख, तुअर 2.56 लाख, मूंग 20 हजार तथा उड़द की बुआई 17 हजार हेक्टेयर पर की गई है.

    मानसून की शुरुआत में हुई शानदार बारिश के चलते किसानों ने उत्साह से बुआई प्रारंभ की. लेकिन जून के चौथे सप्ताह में गायब हुई बारिश से किसानों के माथे पर शिकन थी, जो रविवार व सोमवार को दूर हो गई. जिला समेत संभाग के अधिकांश क्षेत्रों में रविवार की देर रात बारिश हुई. सोमवार को दोपहर बाद शाम 1 से डेढ घंटा झमाझम से किसानों के चेहरे फिर खिल उठे है. 

    वाशिम में सर्वाधिक 87 प्रश

    संभाग के पांच जिलों में सर्वाधिक 87.1 प्रश बुआई वाशिम जिले में हुई है. जबकि जबकि यवतमाल में 72.4 प्रश, अमरावती में 59 प्रश, बुलडाना में 56.4 प्रश तथा अकोला जिले में सबसे कम 24 प्रतिशत क्षेत्र पर बुआई की गई है. 

    184.4 मिमी बारिश

    खरीफ सीजन के लिए खेती कामों की भागदौड़ जारी है. बुआई भी गतिमान हुई है. कृषि विश्वविद्यालय द्वारा 75 से 100 मिमी वर्षा होने के बाद खरीफ बुआई की सिफारिश की है. अमरावती संभाग में 28 जून तक 184.4 मिमी औसत बारिश हो चुकी है. जिसमें बुलडाना में 136.7 मिमी, अकोला में 79.1 मिमी, वाशिम में 211.9 मिमी, अमरावती में 189.4 मिमी और यवतमाल में 257.7 मिमी बारिश हुई है. अमरावती संभाग के 56 तहसीलों में 388 राजस्व मंडल हैं. इसमें 11 राजस्व मंडलों में 0 से 25 मिमी, 25 सर्कल में 25 से 50 मिमी, 41 सर्कल में 50 से 75 मिमी, 38 सर्कल में 75 से 100 मिमी और 273 सर्कल में 100 मिमी बारिश दर्ज की गई है.

    संभाग में जिला वार दर्ज बारिश और बुआई

    जिला बुआई (प्रश में) बारिश (मिमी में)

    अमरावती 59 189.4

    अकोला 24 79.1

    बुलडाणा 56.4 136.7

    यवतमाल 72.4 257.7

    वाशिम 87.1 211.9

    औसत 59.78 184.4