In Akola district due to continuous rain Heavy loss of farm crops, farmers in economic crisis

तिवसा/नांदगांव खंडेश्वर. रविवार को शहर समेत नांदगांव खंडेश्वर, तिवसा तहसील में भी मूसलाधार बारिश हुई. तिवसा तहसील में रविवार को दोपहर बिजली की कडकडाट के साथ मूसलाधार बारिश ने दस्तक दी. बीते दो-तीनों दिनों से वापसी की बारिश ने किसानों को परेशान कर रखा है. बडे पैमाने में बादल घीर आने से शहर में दिन में भी अंधेरा छा गया था. जबकि गुरुकुंज मोझरी परिसर में दोपहर 11.30 से मेघगर्जना व बिजली की कडकडाट शुरु हो गई. कुछ देर बाद शुरु हुई बारिश लगभग 3 घंटे चली.

सोयाबीन, कपास बर्बाद

इन दिनों किसान सोयाबीन कटाई में व्यस्त है. लेकिन प्रकृति किसानों ने नाराज दिख रही है्. ऐन कटाई के समय मुसलाधार बारिश से जमा किया सोयाबीन पुरी तरह भीग गया है. इस वापसी की बारिश ने किसानों पर आफत बरसाई है. जिससे सोयाबीन मिट्टी मोल करने के साथ कपास, सब्जी का नुकसान किया है. परिणामस्वरुप किसान फिर आर्थिक संकट में फंस गया है. जिससे शासन, प्रशासन से नुकसान का सर्वे कर सहायता की मांग की जा रही है. 

पोल झुके, पेड गिरे

नांदगाव खंडेश्वर तहसील अंतर्गत सभी गांवों में रविवार को तकरीबन 2 घंटे बारिश हुई. बिजली कड़कड़ाहट और तूफान के साथ बारिश शुरू हुई. हवा इतनी तेज थी की खेतों के सभी पोल झुक गए. उसी प्रकार कई खेतों में आम के पेड़ भी गिर गए. इससे पहले हुर्द अत्याधिक बारिश से सोयाबीन की फसल को नुकसान होने से किसान पहले ही नाराज है. अब इस बारिश ने कटा सोयाबीन खराब किया है. यह सोयाबीन अंकुरीत हो रहा है. 

शहर में भी बरसात

रविवार को सुबह से ही बदरीला मौसम रहा. पश्चात दोपहर को बारिश शुरु हो गई. हालांकि इस बारिश ने गर्मी और उमस से राहत दिलाई है, लेकिन ग्रामिण क्षेंत्रों में किसानों की मुश्किले बढाई है. रविवार अवकाश दिन होने से अधिकतर लोगों ने घर पर ही रहकर बरसात का लुत्फ उठाया.