APMC meeting canceled due to lack of quorum, 11 members refuse

    अमरावती. स्टाक लिमिट को लेकर व्यापारियों व्दारा किए जा रहे आंदोलन के 7वें दिन कृषि उपज मंडी (एपीएमसी) की रौनक वापस लौटी. सोमवार को कृषि उत्पन्न बाजार समिति खुलते ही किसानों के साथ हमाल, मापारी, अडतें और व्यापारियों की चहल-पहल बढ़ गई. पहले ही दिन 2200 आवक दर्ज की गई.

    जिसमें गेहूं 209 बोरे, तुअर 988, चना 749 बोरे, सोयाबीन 418 बोरे और मूंगफली 98 बोरे आवक दर्ज की गई. एपीएमसी शुरू होने के बावजूद व्यापारियों ने केंद्र सरकार के निर्णय के विरोध में काले पीछे लगा कर केंद्र सरकार का विरोध जताया गया.

    वापस लौटी रौनक 

    6 दिनों से बंद एपीएमसी सातवें दिन खुलते ही सुबह से ही किसानों ने माल लेकर एपीएमसी में एंट्री की. हमाल-मापारी भी 7 दिन बाद एपीएमसी पहुंचे. नियमित रूप से काम शुरू किया. जिसके कारण छह दिनों से वीरान पड़ी एपीएमसी में रौनक वापस लौट आयी. सुबह से ही प्रलंबित काम निपटाने में प्रशासन जुटा रहा.

    किसान अपने माल को लेकर चिंतित दिखाई दिए, हालांकि व्यापारियों ने किसान हित में यह आंदोलन को स्थगित किया, लेकिन केंद्र सरकार के इस निर्णय को लेकर उन्होंने काले फीते लगाकर काम करने का निर्णय लिया. जिसके चलते जब तक केंद्र सरकार यह निर्णय वापस नहीं लेती, तब तक व्यापारियों द्वारा काले फीते लगाकर ही काम किया जाएगा.