नवसारी-बडनेरा रिंगरोड का निर्माण करें

  • नो एंट्री पर पुर्नविचार करें- ट्रान्सपोर्ट एसो.

अमरावती. शहर में भारी व हलके वाहनों के लिए जारी प्रस्तावित अधिसूचना पर शहर ट्राफिक पुलिस ने पुर्नविचार कर वाहनों की सुविधा के अनुसार टाइमिंग में परिवर्तन करना चाहिए. नवसारी-बडनेरा रिंगरोड निर्माण करने से भारी वाहनों के आवाजाही की समस्या से छुटकारा मिल सकता है. ऐसी मांग अमरावती ट्रान्सपोर्ट एजेंट एसोसिएशन ने पुलिस आयुक्त को निवेदन देकर की है. 

सब्जी व अनाज मंडी सिटी से बाहर हो 

ट्रान्सपोर्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष इमरान खान ने बताया कि भारी वाहनों के लिए प्रस्तावित अधिसूचना पर उन्हें आपत्ति है. शहर में जो भारी वाहन बाहर जिलों से माल लाते है. वहीं जो वाहन बाहरगांव माल ले जाते है. जिसमें जीवनाश्यक वस्तूओं समेत अन्य का समावेश है. इसलिए इन वाहनों को रात के समय लोडिंग व अनलोडिंग करना संभव नहीं है. जिससे नो एंट्री के समय में परिवर्तन करें. यदि नो एंट्री लगाई जाती है तो शहर के सब्जी मंडी, अनाज मंडी, कृषि केंद्र , सक्करसाथ व व्यापारी संकुल मुख्य सिटी से बाहर किए जाये. वहीं नवसारी-बडनेरा रिंगरोड का तत्काल निर्माण करें. जिससे भारी वाहनों की समस्या कम हो जाएगी. शहर में एंट्री होने पर गाडियों को ट्रान्सपोर्ट नगर पार्किंग, एमआयडीसी में खड़े कर व्यापारियों को वहां से माल ले जाने की सूचना पुलिस प्रशासन करें.

नो एंट्री अन्यायकारक- न्यू एकता गिट्टी बोल्डर एसो.

न्यू एकता गिट्टी बोल्डर ट्रक वाहतुक संगठन के अध्यक्ष संजय आठवले ने भी प्रस्तावित नो एंट्री पर तीव्र आपत्ति जताई है. रात 9 से सुबह 6.30 बजे तक नो एंट्री में छूट दी है. इस समय कोई भी मजदूर उपलब्ध नहीं होता है. जिससे इस समय रेती-गिट्टी की यातायात करना संभव नहीं है. इस समय रेती घाट व क्रेशर मशीन से गिट्टी लाना व रायल्टी पास प्राप्त करना असंभव है. क्योंकि रायल्टी पास का समय सुबह 6 से शाम 6 बजे तक ही रहता है. इसलिए नो एंट्री में दी गई छूट का समय किसी हाल में सुविधाजनक नहीं है. मकान निर्माण करने के लिए रेती, गिट्टी, मुरुम व मिट्टी ले जाने के लिए शहर से होकर गुजरना पड़ता है. इसीलिए रात के समय यातायात करने पर दुर्घटना की संभावना अधिक रहती है. इसलिए इस नो एंट्री में परिवर्तन करने की मांग संगठन ने की है