सावधान ! स्वस्थ्य होने के बाद दोबारा हो सकते है शिकार

  • 100 दिनों बाद फिर कोरोना
  • जानलेवा साबित होगी बेफिक्री

अमरावती. कोरोना संक्रमण की चपेट में आने के बाद उपचार में स्वस्थ्य हो चुके है. ऐसे कोरोना मुक्त रोगियों में इस महामारी को लेकर बढ़ती बेफिक्री चिंता का विषय बनी है. डाक्टरों के अनुसार कोरोना मुक्त मरीजों को यह वायरस 100 दिनों बाद दोबारा अपना शिकार बना सकता है. इससे बचने के लिये शासन-प्रशासन की त्रिसूत्री गाइड लाइन का पालन कर अत्याधिक खबरदारी लेने की आवश्यकता है. 

टाले नहीं, कराये कोरोना टेस्ट 

शहर समेत जिले में कोरोना पॉजिटिव की संख्या 15,493 पर पहुंच गई है. जिसमें से 13871 रोगी स्वस्थ्य हो चुके है. रिकवरी रेट 90 प्रतिशत है. अब भले ही पॉजिटिव रोगियों की संख्या घटने पर सभी संतोषी है, लेकिन इसका यह भी एक मुख्य कारण माना जा रहा है कि लोग बुखार आने तथा लक्षण पाये जाने पर भी थ्रोट स्वैब अथवा एंटीजन टेस्ट कराने टाल रहे है. हालांकि पॉजिटिव पाए जाने पर डाक्टरों के मार्गदर्शन में होम आइसोलेशन की भी सुविधा है, लेकिन उसके बावजूद आरटीपीसीआर टेस्ट कराने को लेकर दिलचस्पी नहीं दिखाई जा रही है. साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग के साथ मास्क का उपयोग भी अनिवार्यता के साथ नहीं किया जा रहा है. 

फिर हो सकता है कोरोना

कोरोना बाधित रोगी उपचार के बाद पूरी तरह से स्वस्थ्य होता है, लेकिन दोबारा कोरोना नहीं होगा. इस भ्रम में रहना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है. अभी तक 4 कोरोना पीडित स्वस्थ्य होकर घर लौटे, लेकिन उनमें दोबारा संक्रमण पाया गया. इसलिए रिलैक्स ना रहे. योग्य खबरदारी लेना आवश्यक है. 

-डा. श्यामसुंदर निकम, जिला शल्य चिकित्सक