Bank fraud

    अमरावती. जिला मध्यवर्ती सहकारी बैंक के 700 करोड़ रुपयों के म्युच्युअल फंड में निवेश के बाद मिले 3.39 करोड़ के कमिशन की गडबगी करने के मामले में आर्थिक अपराध शाखा पुलिस ने जांच शुरु कर दी है. आर्थिक शाखा के पीआई शिवाजी बचाटे अपने दल के साथ शुक्रवार को अचानक जिला मध्यवर्ती बैंक के मुख्य कार्यालय पहुंचे. यहां जिला बैंक के लेखा विभाग में जाकर इस घोटाले से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण फाइल व कागजातों को जब्त किया है. वहीं संबंधित बैंक कर्मचारियों से कागजातों की जांच पडताल कर पूछताछ की.

    प्रकरण को मिली गति

    15 जून को जिला मध्यवर्ती बैंक पर नियुक्त प्रशासक संदीप जाधव की शिकायत पर कोतवाली थाने में जिला मध्यवर्ती सहकारी बैंक के तत्कालीन अधिकारी राठौड, कर्मचारी व ब्रोकर समेत कुल 11 लोगों के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत अपराध दर्ज किया गया. सीपी डा. आरती सिंह ने आर्थिक अपराध शाखा को मामले की जांच सौंपी.

    आर्थिक शाखा ने शुक्रवार को जिला बैंक के मुख्य कार्यालय में जाकर मामले की छानबीन आरंभ की. यहां करोडों की कैश म्युच्युअल फंड में जमा करने से संबंधित महत्वपुर्ण फाइल व कागजातों की जांच कर उन्हें जब्त किया. पुलिस की कार्रवाई दिन भर चलती रही. निवेश से संबंधित कागजात मिल जाने से अब जांच को गति मिलने की संभावना है. 

    आवश्यक कागजात व फाइल जब्त

    इस प्रकरण से संबंधित कागजात व फाइल की आवश्यकता थी. जिसके तहत शुक्रवार को आर्थिक शाखा ने जिला बैंक पहुंचकर अधिकारियों से उक्त प्रकरण की जानकारी, फाइल व कागजात जब्त किए है. जिससे आगे की जांच चल रही है. – शिवाजी बचाटे, पीआय, आर्थिक शाखा