Uttar Pradesh State Industrial Development Authority

    • निवेदन: केंद्रीय मंत्री गडकरी से मिलीं मंत्री यशोमति

    अमरावती. केंद्र सरकार पुरस्कृत पालकी मार्ग के मेगा प्रोजेक्ट में विदर्भ के साथ अन्याय दूर कर श्री क्षेत्र कौंडण्यपुर का समावेश करें. माता रूक्मिणी का मायका श्री क्षेत्र कौंडण्यपुर की पालकी का राज्य में सम्मान का स्थान है. 427 वर्षों की इस प्राचीन परंपरा का जतन करने के लिए पालकी मार्ग से कौंडण्यपुर को जोड़ा जाए.

    जिससे आषाढ़ी व कार्तिक एकदशी पर पंढरपुर के लिए विदर्भ से रवाना होने वाली 400 से 600 पालकी-दिंडियों में शामिल 5 लाख वारकरियों को अत्याधुनिक सुविधा उपलब्ध होंगी. यह पूरजोर आग्रही निवेदन राज्य की महिला व बाल विकास मंत्री एड. यशोमति ठाकुर ने मंगलवार को केंद्रीय भूतल परिवहन मंत्री नितीन गडकरी को दिया. साथ ही उन्हें इसकी महत्ता भी बताई.

    रोजगार के नए अवसर होंगे उपलब्ध

    वारकरियों के लिए अत्याधुनिक सुविधाओं से संपन्न यह भक्ति मार्ग जहां से होकर गुजरेगा, उस गांव की कायाकल्प होगी. इन गांवों में यह पालकी मार्ग रोजगार के नये साधन भी उपलब्ध कराएगा. इस तरह विकास परियोजना के साथ जिले के सैकड़ों गांवों को रोजगार का सुनहरा अवसर प्रदान करने पालकमंत्री यशोमति अपने भगीरथी प्रयासों में जुट गई है.

    राज्य में प्रति वर्ष आषाढ़ी व कार्तिक एकादशी पर पंढरपुर जाने वाली पालकी-दिंडी के लिए केंद्र सरकार ने भारत माला योजना के अंतर्गत 11500 करोड़ रुपए की लागत से विभिन्न सुविधाओं से संपन्न नया पालकी मार्ग बनाया जा रहा है. कुल 384 किलो मीटर लंबाई वाले फोरलेनयुक्त इस पालकी मार्ग के दोनों ओर 3-3 मीटर का पैदल चलने योग्य मार्ग बनाया जा रहा है.

    केंद्रीय मंत्री नितीन गडकरी की कल्पकता से पैदल वारी करने वाले वारकरियों के लिए दोनों ओर छायादार पेड़ लगाए जा रहे है. कुल 45 मीटर चौड़ाई वाले इस नये फोरलेन के निर्माण के दौरान मार्ग में आने वाले गांवों का भी विकास किया जा रहा है. जिससे संबंधित गांवों में रोजगार के नये अवसर मिलेंगे.   

    वारकरियों के लिए होंगा सुविधाजनक

    वर्तमान में राज्य के अलग-अलग राष्ट्रीय महामार्गों से जोड़कर यह पालकी मार्ग का निर्माण कार्य युद्धस्तर पर चल रहा है. पुणे, सातारा, सोलापुर से गुजरने वाले एनएच 950 पर 250 किलो मीटर के संत ज्ञानेश्वर महाराज पालकी मार्ग के लिए 7000 करोड़ रुपए मंजूर है.

    इसी क्रम में पाटस, इंदापुर, बारामती, अकलुज, तोंडमोडले मार्ग एनएच-965 पर 134 किलो मीटर का संत तुकाराम महाराज रोड निर्माण पर 4500 करोड़ रुपए खर्च किए जा रहे है. इस भक्तिमार्ग से विदर्भ को वंचित रखे जाने की गंभीर दखल लेकर मंत्री यशोमति ठाकुर ने आषाढ़ी एकादशी के पावन दिवस पर केंद्रीय मंत्री गडकरी से मुलाकात की.

    427 वर्ष प्राचीन परंपरा की महत्ता बताई

    उन्हें माता रूक्मिणी के मायके श्री क्षेत्र कौंडण्यपुर से पंढरपुर के लिए 427 वर्षों से जा रही सम्मान की पालकी के बारे में विस्तृत जानकारी दी. इस पालकी मार्ग को श्री क्षेत्र कौंडण्यपुर से जोड़कर विदर्भ के वारकरियों के साथ न्याय करने का अनुरोध किया.

    शेगांव, अकोला, मेडशी, अंबेजोगाई, परली, मंगलवेढा, पंढरपुर मार्ग प्रस्तावित है. अमरावती शहर से 40 किलो मीटर अंतर पर स्थित कौंडण्यपुर को इस पालकी मार्ग से जोड़े. जिससे इस अत्याधुनिक मार्ग के गांवों को भी रोजगार के नए अवसर उपलब्ध होंगे.   

    गडकरी अत्यंत सकारात्मक

    विदर्भ में विकासात्मक प्रकल्पों के लिए सदैव अग्रसर केंद्रीय मंत्री नितीन गडकरीपालकी मार्ग से श्री क्षेत्र कौंडण्यपुर को जोड़ने के लिए अत्यंत सकारात्मक हैं, उन्होंने इसके लिए जल्द से जल्द आगे की कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है.-एड. यशोमति ठाकुर, पालकमंत्री