अन्य जिलों में भी ई-प्राइम का जाल, नागपुर के 4 जालसाजों की तलाश

    अमरावती. 6 माह में चेन मार्केटिंग के माध्यम से ई-प्राइम सेल नामक नेटवर्किंग व्यवसाय में निवेश के जरिये सैकड़ों लोगों को लाखों का चूना लगाने के मामले में साइबर पुलिस ने सान्टिफिक तरीके से जांच में जुटी है. ई-प्राइम सेल ने अमरावती के अलावा नागपुर सहित विदर्भ में अपना जाल फैलाने का तथ्य सामने आ रहा है. जिससे जल्द ही यहां भी नए मामले दर्ज होने की संभावना है.

    शहर साइबर पुलिस के पास ई-प्राइम सेल के माध्यम से ठगे गए 120 लोगों ने अपनी शिकायत दर्ज कराई है. जिससे ठगबाजी का आंकड़ा 22 लाख रुपए तक पहुंच गया है. जिसमें निवेशकों की संख्या दिन ब दिन बढ़ रही है. जिससे प्रकरण करोड़ों तक पहुंच सकता है. पुलिस फांदेबाज मनोज कापसे, पुष्पक पटेल, उत्तम पटेल व एक महिला की तलाश में है. नागपुर निवासी यह 4 जालसाज कंपनी के व्यवस्थापक है.

    चेन मार्केटिंग से फांसा

    फरवरी 2021 से ई-प्राइम सेल ने अपना व्यवसाय शुरू किया था. चेन मार्केटिंग के माध्यम से ग्राहकों को निवेश पर मुनाफे का झांसा देकर सदस्य बनाया जाता था. जिसमें सदस्या फीस के तौर पर कम से 5 हजार व उसके अधिक राशि जमा करवाकर आइडी बनाई जाती थी. इसी आइडी के तहत चेन मार्केटिंग की तर्ज पर सदस्य बनाकर उन्हें एक माह में अनाज खरीदी पर मुनाफा दिया जाता था.

    इस प्रकार से सैकड़ों सदस्य बनाकर लाखों रुपए लेकर ई-प्राइम सेल के व्यवस्थापक फरार हो गए. जिन्हें पुलिस तलाश रही है. ई-प्राइम सेल कंपनी ने अमरावती, नागपुर सहित विदर्भ में भी लोगों को शिकार बनाने की संभावना जताई जा रही है. इसीलिए पुलिस ने इस कंपनी से शिकार हुए लोगों से पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराने की अपील की है.