Experts will investigate signatures, fake bill cases of 74.80 lakh

अमरावती. स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत बडनेरा जोन में निर्माण किए 440 शौचालयों के लिए 74.80 लाख के बिल प्रकरण में एक्सपर्ट से हस्ताक्षरों की जांच की जा रही है. बिल पर किए गए हस्ताक्षर तथा नए व पुरानी फाइलों पर किए गए हस्ताक्षरों की जांच नागपुर के हैंडराइटिंग एक्सपर्ट से की जाएगी. पुलिस ने उसके लिए आवश्यक दस्तावेज मांगे है.

कार्यालायीन अधीक्षक का बयान दर्ज
पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराने वाले कार्यालयीन अधीक्षक ज्ञानेश्वर अडूले का गुरुवार को कोतवाली पुलिस ने बयान दर्ज किया है. किस प्रकार से ठेका दिया गया, उसके बिल कैसे मनपा को पेश किए, किस प्रकार से फर्जी बिल की बात सामने आयी इन सभी सवालों के जवाब बयान के माध्यम से लिये गए. पुलिस ने 9 प्रश्नों पर जवाब के साथ मनपा से दस्तावेज मांगे है. लेकिन 5 दिन बीत जाने के बाद भी अब तक मनपा से कोई दस्तावेज पुलिस को नहीं सौंपे गए हैं. इस बिच लिपीक सारवान तथा रायकवाड पुलिस गिरफ्त से अब भी दूर है.

निष्पक्ष जांच की मांग
अमरावती जागरूक नागरिक मंच की ओर से शौचालय घोटाला प्रकरण में निष्पक्ष जांच की मांग कर जगह जगह पर्चे बांटकर प्रदर्शन किया जा रहा है. नागरिक हाथ में छोटे पैम्पलेंट लेकर शौचालय घोटाला की जांच की मांग कर रहे है.

पूराने बिलों की भी होगी जांच
स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत कुल 1,852 शौचालय निर्माण किए गए है, जिसमें से 1,412 शौचालय के बिल अदा किए गए है, जबकि 440 शौचालय निर्माण के बिल में फर्जीवाड़ा सामने आया है. इसीलिए पूराने बिलों की भी जांच होगी. यदि उसमें कुछ तथ्य मिलता है, तो उस बारे में भी शिकायत दर्ज कराएंगे.-प्रशांत रोडे, निगमायुक्त