Faith, enthusiasm, joy at its peak

अमरावती. अयोध्या में रामलला मंदिर शिलान्यास के उपलक्ष्य में बुधवार को पूरे जिले में आनंदोत्सव मनाया गया. इस स्वर्णिम क्षण पर लोगों की खुशी चरम पर रही. जय श्रीराम के गगनभेदी जयघोष से पूरा शहर व जिला गूंजायमान रहा. घर-घर में भए राम नाम का जाप, रामायण पाठ, मणका 108 का पठन हुआ.  दिवाली से बड़ी दीपावली 5 अगस्त को मनाई गई. गली मोहल्लों में भी प्रसाद बांटा गया. चौक-चौराहों के साथ ही मंदिरों पर भगवा पताकाएं लहराई गई. यह आनंदोत्सव एतिहासिक रहा.

शहर ही नहीं ग्रामीण क्षेत्रों में भी सबेरे से उत्सव का माहौल रहा. महिलाओं समेत बड़े-बजुर्ग, व्य़ापारी, युवा दोपहर ठीक 12 बजे से ही टेलिविजन के सामने राम मंदिर का पीएम नरेंद्र मोदी के हाथों भूमिपूजन का स्वर्णिम समारोह अपनी आंखों में समाने के लिये लालायीत रहे. पुरुषोत्तम मर्यादा रामजी की भक्ति में डूबे लोग कोरोना को भूले है.  

अंबादेवी में मनाया स्वप्नपूर्ति सुवर्णक्षण
अमरावती.देश भर में हिंदूओं के आस्थास्थान अयोध्दा के राम मंदिर निर्माण के भूमिपूजन समारोह के मौके पर बुधवार को अंबा-एकविरा देवी माता मंदिर परिसर में मनसे शहर उपाध्यक्ष नितेश शर्मा, महानगर अध्यक्ष संतोष बद्रे, शहर अध्यक्ष गौरव बांते तथा क्षेत्र के पार्षद अजय सारस्कर की ओर से प्रभू श्रीराम की प्रतिमा का पूजन किया गया. राज्य सरकार के दबाव में पुलिस प्रशासन की ओर से इस कार्यक्रम को रोकने का प्रयत्न किया गया, लेकिन फिर भी सभी रामभक्तों ने पूजन कर कारसेवक संतोष निर्मल, विलास चौधरी, बंडू चौधरी का सत्कार किया. जहां राम मंदिर निर्माण भूमिपूजन समारोह का आनंद उत्साह व्यक्त किया. महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना की ओर से राज्य सरकार के कृति का जाहिर निषेध किया. अजय सारस्कर ने भी पुलिस प्रशासन व्दारा दबाव बनाये जाने से पुलिस का भी निषेध किया. 

सतीधाम मंदिर में अलौकिक श्रृंगार
नियम के तहत भक्तों के दर्शन हेतु सभी मंदिरों के पट बंद है. लेकिन कई सभी मंदिरों में विषेश पूजन किया गया. सतिधाम मंदिर के राम दरबार का आलौकिक श्रृंगार हुआ. जिसके भक्तों को डिजिटल दर्शन करवाए गए. भक्तिधाम व अन्य मंदिरों में भी पूजन व श्रृंगार हुआ. 

राजकमल चौक होर्डिंग से सजा 
राममंदिर के भूमिपूजन का क्षण रामभक्तों के साथ साथ शहरवासियो के लिए काफी आनंदोत्सव का क्षण है. जिसके चलते इस दिन को यादगार बनाने के लिए हर किसी ने शहरवासियों को बधाईयां देकर खुशी व्यक्त की. विश्व हिंदु परिषद की ओर से एकविरा देवी मंगल कार्यालय में 11 कार सेवकों का सत्कार भी किया गया. जिसके चलते राजकमल चौक ही भगवामय हो गया था.