वाह-वाही बटोरने झूठे केस में फंसाया, क्राइम ब्रांच पर लगाया संगीन आरोप

अमरावती. वरिष्टों के सामने क्वालिटी केस दिखाकर वाहवाही बटोरने के लिए सिटी क्राइम ब्रांच ने जुआ क्लब चलाने की झूठा मामला बनाकर 8 निरअपराध लोगों पर फर्जी कार्रवाई कर उन्हें फंसाया है. ऐसा आरोप भाजपा के सक्रिय सदस्य भुपेन्द्र ठाकुर ने लगाया है. अपने साथ हुए अन्याय के खिलाफ पुलिस आयुक्त, मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री व गृहमंत्री से शिकायत करेंगे. न्याय ना मिलने पर कोर्ट का दरवाजा खटखटाकर क्राइम ब्रांच पर मानहानि का दावा किया जाएगा. मंगलवार की दोपहर पत्र परिषद में ठाकुर ने बताया कि वह खेती व्यवसाय करते है. भाजपा में पहले उपाध्यक्ष थे, लेकिन फिलहाल सक्रिय सदस्य के रुप में काम कर रहे है. इस बीच संपर्क करने पर क्राइम ब्रांच के प्रमुख कैलाश पुंडकर ने कोई भी टिप्पणी करने से साफ इंकार दिया.  

पिस्तौल दिखाकर डराया

18 सितंबर शुक्रवार की शाम वह पन्नालाल बगीचा स्थित अपने घर पर 4 से 5 दोस्तों के साथ बैठे थे. सबी मिलकर खेत पर पार्टी करने जा रहे थे. तभी अचानक क्राइम ब्रांच के पीएसआइ राम गिते, आशीष देशमुख, दिनेश नांदे, उमेश कापडे, जावेद, सुलतान व इमरान के साथ वहां क्राइम ब्रांच की टीम पहुंची. तुम्हें सीपी के सामने पेश करना है. ऐसा कहकर सभी को पुलिस जीप में बैठा लिया. इंकार करने पर एक अधिकारी ने पिस्तौल का डर दिखाया. खेती में छिडकाव के लिए लगाई गई 2 लाख 50 हजार कैश व मोबाइल जबरदस्ती जब्त किये. सीपी आफिस पहुंचने पर खुद का जुआ साहित्य डालकर झूठी केस में फंसाकर राजापेठ थाने में भेज दिया. 

कहां गए 1 लाख 38 हजार 

नई सीपी के समक्ष क्वालिटी केस दिखाने व वरिष्ठों से पीठ थपथपाने के लिए यह फर्जी कार्रवाई कर निरअपराध लोगों पर एफआइआर दर्ज की है. 2.50 लाख की रकम लेने के बाद मात्र 1.12 लाख रुपए ही कार्रवाई में दिखाए, क्राइम ब्रांच ने घटनास्थल पर कोई पंचनामा नहीं किया. किसी भी प्रकार की वीडियो शूटिंग व फोटो उनके पास नहीं है. फर्जी केस में फंसाने वाले क्राइम ब्रांच के अधिकारी व कर्मियों पर कार्रवाई करें, उन पर दर्ज झूठे केस पीछे ले, जुआ के नाम पर जब्त रकम व मोबाइल लौटाए. इस बारे में सीएम, डिप्टी सीएम, गृहमंत्री व पुलिस आयुक्त से शिकायत करेंगे. इस समय उनके साथ शैलेष घोंगडे उपस्थित थे.